नौकरी फोकस


Volume 49

फ़ैशन सम्प्रेषण में रोजग़ार के अवसर

सुरेश वर्मा एवं विजय दुआ

सपने देखना और दूसरे को सपने दिखाना ही फै़शन है - डोनाटेला वर्सेस

क्या आप नवीनत प्रवृत्तियों और लाइफस्टाइलों को लेकर रचनात्मक, कल्पनाशील और जोश से परिपूर्ण हैं? यदि आपके पास उत्कृष्ट सम्प्रेषण कौशल है और मीडिया के प्रति उत्तेजना है, तब निश्चित रूप से फ़ैशन सम्प्रेषण आपके रोजग़ार अवसरों को हासिल कर लेगा. यहां आप ये सीखेंगे कि अपनी फै़शन दुनिया के लिये मीडिया और सम्प्रेषण टूल्स का उपयोग करके आप किस तरह अपनी सृजनात्मकता का उपयोग करेंगे. यदि आपमें विभिन्न स्वरूपों में लिखने का जोश, फोटोग्राफी में रुचि और दृश्यों को समझने की गहरी समझ है, तो यह क्षेत्र आपका गंतव्य हो सकता है. ऑनलाइन शॉपिंग में बढ़ोतरी और फै़शन उद्योग में तेज़ी के फलस्वरूप यह क्षेत्र अपनी संभावित गति के साथ विस्तारित हो रहा है.

फै़शन सम्प्रेषण क्या है?

फै़शन सम्प्रेषण को एक अंतर-विषयक अध्ययन माना जाता है जो आपको ग्राफिक डिजाइन, फै़शन फोटोग्राफी, फै़शन पत्रकारिता और प्रकाशन, उत्पाद लॉन्च करने, जन संपर्क, प्रदर्शनियों और कार्यक्रम प्रबंधन जैसे मीडिया, फै़शन और संस्कृति उद्योगों में स्थान प्राप्त करने के योग्य बनाता है. यह एक विशिष्ट क्षेत्र है जहां कोई भी मनोवैज्ञानिक, दार्शनिक, सामाजिक और आर्थिक कारकों को समझ सकता है जो किसी भी देश के फै़शन उद्योग को प्रभावित करते हैं. यदि आप स्व-प्रेरित व्यक्ति हैं, यह आप में मीडिया साक्षरता और उत्कृष्ट सम्प्रेषण कौशलों का विकास कर सकता है. इसके अलावा आपको एक रचनात्मक व्यक्ति बना सकता है जो  कि इस सदैव परिवर्तनशील फै़शन संचालित समाज की सांस्कृतिक मांग के अनुरूप विभिन्न श्रव्य-दृश्य और चित्रों के साथ ब्राण्डों का निर्माण और उन्हें लोकप्रिय बना सकता है. यदि आप किसी उत्पाद की फ़ैशन ब्राण्ड के तौर पर पहचान विकसित करना चाहते हैं अथवा प्रोत्साहन का अभियान चलाना चाहते हैं तो यह क्षेत्र आपको संकल्पना, श्रव्य-दृश्य और लेखन कौशलों के विकास में समर्थ बना सकता है. यह आपको कला निर्देशन, चित्रकारी, ग्राफिक्स, फै़शन स्टाइलिंग, कॉपीराइटिंग, फै़शन पत्रकारिता और विज्ञापन में भी उत्कृष्ट बना सकता है.

फै़शन सम्प्रेषण के लिये अभिरुचि

यदि आपका फै़शन के प्रति मोह है, अपने आप से अपने मज़बूत गुणों के बारे में पूछिये. आप में सृजनात्मक और आलोचनात्मक सोच-विचार, प्रशंसा की कला, आस पड़ोस के बारे में जानकारी, आधुनिक और ऐतिहासिक सांस्कृतिक विषयों की समझ होनी चाहिये. आप विषय, बाज़ार, ग्राफिक्स, फोटोग्राफी और पाठ के अन्वेषण, विश्लेषण और मूल्यांकन में अच्छे होने चाहिये. इसके अलावा उत्पाद प्रबंधन, उपभोक्ता व्यवहार और बाज़ार अनुसंधान के लिये गहन रुचि होना अपेक्षित होता है.

प्लेसमेंट

इस पाठ्यक्रम को पूरा करने के उपरांत, आप ग्राफिक डिज़ाइनर, विजुअल मर्केन्डाइजर, सृजनात्मक निर्देशक, विषय विकासक, ब्रैंड डिजाइनर, विज्ञापन प्रबंधक, सोशल मीडिया रणनीतिकार, फै़शन स्टाइलिस्ट, फै़शन लेखक, जन संपर्क एवं कार्यक्रम प्रबंधक, फै़शन और लाइफस्टाइल पत्रकार या फै़शन परामर्शदाता बन सकते हैं. फै़शन सम्प्रेषण आपको एक ऐसे मंच पर लाकर खड़ा कर देता है जहां पर आप फै़शन प्रवृत्तियों, कार्यक्रमों और लेखन समीक्षाओं से संबंधित कुछ भी लेखन कार्य कर सकते हैं. इस अंतर-विषयक पाठ्यक्रम के लिये कुछ ही संस्थानों में विशेषज्ञता है जिसमें फै़शन और मीडिया दोनों की समझ की आवश्यकता होती है. इस क्षेत्र में एक प्रमुख संस्थान राष्ट्रीय फै़शन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) है.

निफ्ट से फै़शन सम्प्रेषण

निफ्ट वस्त्र मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन निफ्ट अधिनियम, 2006 से शासित एक सांविधिक संस्थान है. हर साल राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जिसे निफ्ट के तौर पर लोकप्रियता हासिल है, उम्मीदवारों के लिये प्रवेश परीक्षा का आयोजन करता है, जो फै़शन डिज़ाइन, लैदर डिजाइन, असेसरी डिजाइन, वस्त्र डिजाइन, निटवियर डिजाइन, फै़शन सम्प्रेषण में विशेषज्ञता के साथ बैचलर ऑफ डिजाइन (4 वर्षीय), बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (अपैरल प्रोडक्शन) के साथ-साथ मास्टर ऑफ डिजाइन, मास्टर ऑफ फै़शन मैनेजमेंट और मास्टर ऑफ फै़शन टेक्नोलॉजी कार्यक्रमों के लिये 16 परिसरों में प्रवेश परीक्षा का आयोजन करता है. प्रवेश 2017 के लिये निफ्ट ऑॅनलाइन पंजीकरण सामान्यतया नवंबर, 2016 में आरंभ हुआ.

निफ्ट प्रवेश परीक्षा के लिये पात्रता
राष्ट्रीय फै़शन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) प्रवेश परीक्षा को इस क्षेत्र की सर्वाधिक प्रतिस्पर्धात्मक प्रवेश परीक्षा के तौर पर माना जाता है. इस प्रवेश परीक्षा के लिये आपको नीचे सूचीबद्ध पात्रता मानदंडों का पालन करने की अपेक्षा होती है:-
*आपके लिये न्यूनतम पांच विषयों के साथ किसी भी मान्यताप्राप्त केंद्रीय/राज्य माध्यमिक बोर्ड या राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय की 10 + 2 या समकक्ष परीक्षा अथवा एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज द्वारा इसके समकक्ष मान्यताप्राप्त भारत में या विदेश में किसी सरकारी स्कूल/ बोर्ड/ विश्वविद्यालय से समकक्ष परीक्षा सफलतापूर्वक उत्तीर्ण करना अपेक्षित होता है, अथवा
*आपके पास अभातशिप या राज्य तकनीकी शिक्षा बोर्ड से मान्यताप्राप्त 3 या 4 वर्ष का डिप्लोमा होना चाहिये, अथवा
*आपने जनरल सर्टिफिकेट एजुकेशन (जीसीई) परीक्षा (लंदन/ कैम्ब्रिज/ श्रीलंका) परीक्षा उन्नत (ए) स्तर की उत्तीर्ण की होनी चाहिये.
*आपकी अधिकतम आयु प्रवेश के वर्ष में पहली नवंबर को 23 वर्ष तक सीमित हो, साथ में अजा/ अजजा/शावि उम्मीदवारों के लिये छूट है.
हजारों की संख्या में उम्मीदवारों का निफ्ट में प्रवेश पाने का सपना होता है. प्रवेश प्रतियोगिता का स्तर बहुत ऊंचा होता है और परीक्षा में सफल होने के लिये कठिन परिश्रम करने की आवश्यकता होती है. प्रतियोगी परीक्षाओं में उम्मीदवारों के तार्किक योग्यता, पठन और समझबूझ, मूलभूत सामान्य ज्ञान, गणितीय योग्यता और लेखन कौशलों आदि की जांच की जाती है. आपको प्रतियोगी प्रवेश परीक्षा में अच्छा स्कोर हासिल करने के लिये अच्छा अध्ययन करने की योजना बनाने की आवश्यकता होती है.
*निफ्ट प्रवेश परीक्षा में 2 पेपर्स शामिल होते हैं
*गैट (सामान्य योग्यता परीक्षा)
*कैट (सृजनात्मक योग्यता परीक्षा)

गैट परीक्षा में प्रत्येक छात्र की मात्रात्मक गणित, विश्लेषणात्मक रीजनिंग, अंग्रेजी सम्प्रेषण, अंग्रेजी ज्ञान और सामान्य ज्ञान की योग्यता की जांच की जाती है.

कैट परीक्षाओं में प्रत्येक छात्र की डिजाइन समस्या समाधान, दृश्य समझ, अवलोकन एवं अवधारणा, पर्यावरणीय जागरूकता, मानसिक योग्यता और सम्प्रेषण कौशलों के दृश्यात्मक और पाठ्यात्मक प्रश्नों को शामिल किया जाता है.

पाठ्यक्रम

सामान्य योग्यता परीक्षा (गैट)

इस परीक्षा के विभिन्न खण्डों में निम्नलिखित शामिल होता है:

मात्रात्मक योग्यता: इस खण्ड को उम्मीदवारों की मात्रात्मक योग्यता की जांच हेतु डिजाइन किया जाता है जिसमें जोड़, गुणा, भाग, भिन्न अंक, प्रतिशतता, ब्याज की दर, काम और कार्य, अनुपात और समानुपात तथा दूरी पर प्रश्न सम्मिलित होते हैं.

सम्प्रेषण योग्यता :

इस खण्ड का उद्देश्य उम्मीदवारों के रोज़मर्रा के अंग्रेजी में सम्प्रेषण की भाषा योग्यता की जांच करना है. इसमें समानार्थक, विलोम शब्द, शब्दार्थ, अनेक शब्दों का एक शब्द, एकवचन, बहुवचन, मुहावरे और लोकोक्तियां, सही वर्तनी आदि शामिल होते हैं.

अंग्रेजी ज्ञान :

इस खण्ड का उद्देश्य उम्मीदवार के एक दिये गये पैरा से स्थिति का निष्कर्ष निकालने की योग्यता और मूलभूत अंग्रेजी भाषा के ज्ञान की जांच करना होता है.

विश्लेषणात्मक योग्यता :

इस खण्ड में दी गई सूचना में हस्तक्षेप करने और तर्क देने की योजना के लिये उम्मीदवार की क्षमता की जांच की जाती है.

सामान्य ज्ञान और नवीनतम घटनाक्रम :

इस खण्ड के तहत परीक्षा में उम्मीदवार के सामान्य ज्ञान और ताज़ा घटनाक्रमों की जानकारी की जांच की जाती है.

सृजनात्मक योग्यता परीक्षा (कैट): बैचलर ऑफ डिजाइन और मास्टर ऑफ डिजाइन के लिये. यह परीक्षा उम्मीदवार की संकल्पना विकास और डिजाइन योग्यता में सहज ज्ञान क्षमता की जांच के लिये है. परीक्षा का एक महत्वपूर्ण पहलू रंगों और चित्रण कौशलों का सृजनात्मक तथा अभिनव प्रयोग है.

समान तरह के पाठ्यक्रम संचालित करने वाले कुछेक अन्य संस्थान हैं:
*देश भर में स्थित राष्ट्रीय फै़शन प्रौद्योगिकी संस्थान परिसर
*राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान, अहमदाबाद
*सृष्टि स्कूल ऑफ डिजाइन, बंगलौर
*सिमबॉयसिस सेंटर ऑफ डिजाइन, पुणे
निफ्ट में सफलता के लिये सात सफलता मंत्र
किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के लिये हम पांच चरणों से होकर गुजरते हैं और निफ्ट इससे छूटा नहीं है. ये हैं:
1.योजना
2.तैयारी
3.अभ्यास
4.प्रवीणता
5.प्रदर्शन

1. अपनी प्रतिभा का पता लगायें और दिशा प्राप्त करें:

आपको अपनी योग्यता के आधार पर अपना निर्णय करना चाहिये. जब आप यह फैसला स्वयं करेंगे, इससे आपके प्रयास फलीभूत होंगे. इस प्रवेश परीक्षा में सफलता के लिये अपने स्वयं के गहरे, ठोस और मज़बूत कारणों को ढूंढऩे का प्रयास करें.

2. एक यथार्थवादी योजना बनाएं:

लंबे समय तक अपनाई जाने वाली सर्वश्रेष्ठ योजना है ‘‘अपने कार्य की योजना बनाना और अपनी योजना पर काम करना‘‘. अध्ययन, खेलों और सामाजिक प्रतिबद्धताओं के बीच संतुलन के लिये भी अपने समय की योजना बनाएं. प्रवेश परीक्षा कठिन परिश्रम के साथ कार्य करने के साथ-साथ स्मार्ट वर्किंग के बारे में भी होती है. परीक्षा के सभी आयामों को शामिल करते हुए लगातार अध्ययन करें.

3. अपनी प्रतिस्पर्धा को जानें और मूलभूत बातों को स्पष्ट करें:

आपको  प्रश्नपत्र, इसके स्टाइल के बारे में स्पष्ट जानकारी होनी चाहिये और प्रवेश परीक्षा के सभी भागों की स्पष्ट समझ होनी चाहिये. गति और शुद्धता मूल औजार होते हैं और आप पूर्वाभ्यासों के जरिए इसे हासिल कर सकते हैं. सदैव किसी दिये गये विषय के पीछे की अवधारणाओं पर ज़ोर देते हुए उसे समझने का प्रयास करें.

4. सृजनात्मक और आलोचनात्मक विचार:

अधिकतम स्कोर के लिये आपको प्रश्नों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिये और इनसे जुड़ी अपेक्षाओं का पालन करें. इसके अलावा सभी पहलुओं की समझ बनाएं और सुनिश्चित करें कि पूछे गये प्रश्न के अनुरूप उत्तर दे रहे हैं. आपको अपेक्षाओं को कम से कम दो बार पढऩा चाहिये और यह निर्णय करें कि आपको उचित प्रारूप में कौन सी सूचना उपलब्ध करवानी चाहिये. अभ्यास करने में आप जितना समय लगाते हैं, परीक्षा में दक्षता बेहतर होती है.

5. सकारात्मकता पर ध्यान दें:

निफ्ट परीक्षा में हमने यह देखा है कि सफलता उनको मिलती है जो इसके के लिये तैयारी करते हैं. अत: कठिन परिश्रम कीजिए और देखिये किस तरह इससे आपके सपनों को हकीकत में बदलने में मदद मिलती है. अपनी परीक्षाओं  के बाद सकारात्मक बातें उभरकर आने पर ध्यान लगायें जिससे निश्चित तौर पर आपके अध्ययन की गति में तेज़ी आयेगी.

6. समय प्रबंधन:

आपको प्रत्येक खण्ड के लिये संतुलित समय वितरण करना चाहिये और अभ्यास के लिये उस हिस्से को अधिक समय देना चाहिये, जिस हिस्से को आप कमज़ोर मानते हैं. सबसे पहले अपने श्रेष्ठ क्षेत्र से शुरूआत करें और जिसके बारे में आपको जऱा भी विश्वास नहीं है उसे हल करने के लिये बाद में हाथों में लें.

स्वयं पर भरोसा करें:

कम आत्म-विश्वास और आत्म-संदेह सदैव आपको पीछे की तरफ धकेलता है और इन भावनाओं से आपके अध्ययन कार्यक्रम में बाधा आयेगी. इन भावनाओं पर स्वयं को प्रेरित करके और अच्छा साहित्य पढक़र नियंत्रण कायम करें.

सभी मनुष्यों में सृजनशीलता होती है परंतु हम सभी को अपनी सृजनात्मक योग्यता को प्रफुल्लित करने का सौभाग्य प्राप्त नहीं होता है. यह योग्यता हमें कल्पनाशील और अन्वेषण, सृजनात्मकता और सम्प्रेषण तथा सृजनात्मक तरीके से समस्याओं के समाधान में समर्थ बनाती है. सृजनात्मकता और सृजनात्मक समस्या समाधान एक कला होती है. फै़शन सम्प्रेषण आपकी सृजनात्मकता का एक मंच है. जब आपमें सृजनात्मकता का विकास होगा, धन की समस्या नहीं बनी रहेगी. आप आज़ादी के साथ अपना जीवन जीना शुरू कर देंगे, आप जो भी चाहते हैं, जिससे आप में प्रेरणा और उत्तेजना आती है, वही करें.  

सुरेश वर्मा, वरिष्ठ संकाय, एमसीआरसी, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली ई-मेल: skverma@jmi.ac.in. और विजय दुआ, एसोसिएट प्रोफेसर डिजाइन, फै़शन सम्प्रेषण, निफ्ट, नई दिल्ली,  ई-मेल: vijay.dua@nift.ac.in

 

चित्र: गूगल के सौजन्य से