नौकरी फोकस


Volume-3

एनईईटी के लिये तैयारी

रूचि श्रीमाली

एनईईटी परीक्षा भारत में सबसे महत्वपूर्ण एकल प्री-मेडिकल परीक्षा है. एनईईटी 2017 में भाग लेने वाले सभी राज्य अपनी 15 प्रतिशत एमबीबीएस और बीडीएस सीटें अखिल भारतीय केंद्रीयकृत काउंसलिंग के जरिये और 85 प्रतिशत सीटें राज्य काउंसलिंग के जरिये भरेंगे.
जम्मू एवं कश्मीर (ज.एवं क.), आंध्र प्रदेश (आं.प्र.) तथा तेलंगाना के छात्र केवल सशस्त्र सेनाएं चिकित्सा महाविद्यालय (एएफएमसी), पुणे में प्रवेश के लिये परीक्षा में उपस्थित हो सकते हैं. अन्य संस्थान और विश्वविद्यालय, जो कि अपने एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों के लिये छात्रों को स्क्रीन करते हैं उनमें दिल्ली विश्वविद्यालय, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) और जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय शामिल हैं.
एनईईटी 2017 के लिये पात्रता मानदंड
भारतीय नागरिक और भारत के समुद्रपारीय नागरिक (ओसीआई) एनईईटी 2017 के लिये आवेदन करने के पात्र हैं, यदि:
*उन्होंने भौतिकी, कैमिस्ट्री, जीवविज्ञान अथवा जैव प्रौद्योगिकी और अंग्रेजी के साथ 10+२ परीक्षा अथवा इसके समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण की है अथवा परीक्षा दी है.
*सामान्य श्रेणी उम्मीदवारों के लिये कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में कम से कम 50 प्रतिशत स्कोर हासिल करना आवश्यक है. शावि श्रेणी (सामान्य) में छात्रों के लिये 45 प्रतिशत जबकि अजा, अजजा और अपिव छात्रों के लिये अर्हक परीक्षा में 40 प्रतिशत अंक अर्जित करना आवश्यक है.
*एनईईटी 2017 परीक्षा में उपस्थिति के लिये योग्यता हेतु छात्रों की आयु 31 दिसंबर, 2017 को कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिये. इस वर्ष कोई ऊपरी आयु सीमा नहीं है परंतु छात्रों को संस्थानों या विश्वविद्यालयों द्वारा विनिर्दिष्ट आयु सीमाओं को पूरा करना होगा, जिसमें वे प्रवेश चाहते हैं.
85 प्रतिशत राज्य कोटा सीटों के लिये:
*छात्र राज्य के वैध अधिवासी होने चाहिये.
*उनके पास राज्य का आवासीय सबूत होना चाहिये. सभी उम्मीदवारों के लिये एनईईटी 2017 परीक्षा के लिये आवेदन करने हेतु आधार कार्ड होना आवश्यक है. लेकिन जम्मू एवं कश्मीर, असम और मेघालय के छात्रों को छूट दी गई है.
राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) अथवा अखिल भारतीय प्री मेडिकल परीक्षा (एआईपीएमटी) के लिये 31 मार्च, 2017 को आयु सीमा को हटा दिया गया है. इसका अर्थ यह हुआ कि 25 वर्ष से ऊपर आयु के छात्र भी इस वर्ष से मेडिकल प्रवेश परीक्षा के लिये पंजीकरण करवा सकते हैं.
यह निर्णय भारतीय चिकित्सा परिषद की सिफारिश के आधार पर किया गया था जो कि भारत में चिकित्सकों की बेहद कमी के अंतर को पाटने की दिशा में प्रयास कर रही है.
उच्चतम न्यायालय एनईईटी परीक्षा में आयु सीमा पर अंतिम निर्णय बाद में सुनाएगा.
इससे पहले केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने घोषणा की थी कि मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के इच्छुक छात्र अधिकतम तीन बार एनईईटी परीक्षा में उपस्थित हो सकते हैं. यद्यपि बाद में उसने स्पष्टीकरण दिया कि इस मामले में 2017 से पहले के एनईईटी अवसरों को विचार में नहीं लिया जायेगा. एनईईटी 2017 इस वर्ष परीक्षा के लिये उपस्थित होने वाले सभी मेडिकल छात्रों के लिये प्रथम प्रयास माना जायेगा.
यदि आप चिकित्सक बनना चाहते हैं, 2017 आपके लिये परीक्षा में उपस्थित होने के लिये एक आदर्श वर्ष है.
एनईईटी 2017 परीक्षा की तिथि 7 मई, 2017 घोषित की गई है.
आपको आधिकारिक एनईईटी वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन करना और यथा निर्देशित व्यक्तिगत और शैक्षणिक विवरण भरना और पसंद के परीक्षा केंद्र के बारे में बताना आवश्यक है.
एनईईटी के लिये आवेदन करते समय आपके लिये एक वैध ई-मेल आईडी और पासवर्ड तथा हाल के फोटोग्राफ की स्कैन की गई प्रति भी आवश्यक होती है.
छात्र एनईईटी 2017 आवेदन शुल्क का भुगतान भी ऑनलाइन-नेट बैंकिंग, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड या ई-वालेट के जरिये कर सकते हैं. सामान्य श्रेणी अथवा अपिव श्रेणी के छात्रों के लिये आवेदन शुल्क 1400 रु. है जबकि अजा, अजजा या शावि छात्रों के लिये एनईईटी आवेदन शुल्क 750 रु है.
एनईईटी 2017 के लिये प्रवेश-पत्र 15 अप्रैल, 2017 को जारी किये जायेंगे.
एनईईटी आवेदन प्रपत्र प्रस्तुत करने से पहले पुष्टि पृष्ठ का प्रिंटआउट लेना नहीं भूलें, और इसे बाद में उपयोग के लिये सुरक्षित रख लें.
एनईईटी 2017 के लिये मात्र 30 दिनों में तैयारी कैसे करें?
एनईईटी परीक्षा के लिये एक महीने में तैयारी करना कठिन और असंभव नहीं है. यदि आपने महसूस किया है कि आप एनईईटी 2017 के लिये आवेदन कर सकते हैं (क्योंकि आप की आयु 25 वर्ष से अधिक है), अधिक संकोच करने की आवश्यकता नहीं है.
यहां पर आपके लिये कुछेक उपाय हैं जिनसे आपकी मात्र 30 दिनों में एनईईटी या एआईपीएमटी परीक्षा को उत्तीर्ण करने में मदद हो सकती है:
एनईईटी अध्ययन सामग्री:
चूंकि आपके पास समय थोड़ा है, एनसीईआरटी पुस्तकों पर ध्यान केंद्रित करें. आप अन्य पुस्तकों को यथापेक्षित केवल संदर्भ के लिये रख सकते हैं. आप अधिक अभ्यास के लिये अन्य एनईईटी तैयारी पुस्तकों या इंटरनेट स्रोतों पर उपलब्ध एमसीक्यूज को भी हल कर सकते हैं.
समय की कमी के कारण पहले महत्वपूर्ण विषयों को तैयार करें और इसके बाद प्रत्येक विषय के शेष पाठयक्रम को पूरा करें.
भौतिकी के लिये महत्वपूर्ण विषय
*मैकेनिकल प्रोपर्टीज
*करंट इलेक्ट्रिसिटी
*पदार्थ और विकिरण की दोहरी प्रकृति
*चुम्बकीय और गति प्रभार
*थर्मोडायनामिक्स
*रिजिड बॉडी डायनामिक्स
*काम, ऊर्जा और शक्ति
*प्लानर गति
*रे ऑप्टिक्स
*वेव ऑप्टिक्स
*काइनेटिक सिद्धांत और ताप
*पदार्थ की प्रोपर्टीज
*परमाणु अध्ययन
*ओसिलेशन
*गुरूत्वाकर्षण
गति के नियमों, वैकल्पिक करंट और कार्य, ऊर्जा तथा शक्ति का जितना अधिक अध्ययन कर सकते हैं करें.
विशेषज्ञों की राय में एनईईटी में भौतिकी खण्ड मुख्यत: अनुप्रयोग आधारित होता है. अत: आपके लिये सूत्रों को याद करना और विभिन्न स्थितियों में उनके अनुप्रयोगों को समझना आवश्यक होता है.
एनसीईआरटी पुस्तकों के सभी संख्यात्मक प्रश्नों को हल करें और उन्हें संकल्पना भाग तैयार करने के लिये भी प्रयोग करें.
जीवविज्ञान (बॉटनी+ज़ूलॉजी) के लिये महत्वपूर्ण विषय
*प्रजनन
*जैविकीय वर्गीकरण
*वंशानुक्रम और विविधता के सिद्धांत
*फूल देने वाले पौधों का आकृति विज्ञान
*कोशिका: जीवन की इकाई
*प्राणिजगत
*पारिस्थितिकी
*वंशानुक्रम का आणविक आधार
*मानव स्वास्थ्य और रोग
*शरीर द्रव्य और प्रचालन
जैविकीय वर्गीकरण को एनईईटी का प्रश्न पत्र तैयार करने वालों के लिये मनपसंद विषय माना जाता है.
ऐतिहासिक रूप से कहा जा सकता है, जब जीवविज्ञान की बात होती है तो एनईईटी परीक्षा के लिये 90 प्रतिशत प्रश्न एनसीईआरटी की पुस्तकों से लिये जाते हैं. सभी डायग्राम और अवधारणाओं को ध्यानपूर्वक पढ़ें.
रसायनशास्त्र के लिये महत्वपूर्ण विषय
रसायनशास्त्र के विषयों को निम्नानुसार क्रम में पढ़ें:
*मौलिक संकल्पना
*पी-ब्लॉक तत्व
*इक्विलिबिरियम
*आलडेहाइडस, केटोन्स और कार्बोलिक्सिक एसिड
*केमिकल बोंडिंग
*कोर्डिनेशन कम्पाउंडस
*अल्केन्स, अल्केन्स एंड अल्केनाइस
*थर्मोडायनामिक्स और थर्मोकेमिस्ट्री
*हालोकान्स और हालोरेनेस
*डी और एफ  ब्लॉक एलिमेंट्स
*सॉल्यूशन्स
*सोलिड स्टेट
*अल्कोहल्स, फेनोल्स और इथर्स
कैमिस्ट्री में एस-ब्लॉक, पी-ब्लॉक, डी-ब्लॉक और एफ-ब्लॉक तत्व आर्गेनिक कैमिस्ट्री में विशेष प्रतिक्रियाओं के साथ अच्छी तरह तैयार किये जाने चाहिये.
अॅर्गेनिक कैमिस्ट्री से संबंधित एनईईटी के प्रश्न ज्यादातर तथ्य आधारित होते हैं और सीधे एनसीईआरटी की पुस्तकों से लिये जाते हैं.
दूसरी तरफ, अॅर्गेनिक और फिजिकल कैमिस्ट्री में एनईईटी में प्रश्न संकल्पना और अनुप्रयोग आधारित प्रकृति दोनों में पूछे जाते हैं. इनकी तैयारी के लिये आपको एनसीईआरटी की पुस्तकों और अच्छी गुणवत्ता की प्रतियोगी पुस्तकों का संदर्भ लिये जाने की आवश्यकता होती है.
आखिरी हफ्ते में, कम से कम दस पिछले एनईईटी और एआईपीएमटी प्रश्न पत्रों को हल करें. इससे आपको एनईईटी प्रश्नों की पद्धति को जानने में मदद मिलेगी साथ ही परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के कठिनता स्तरों का पता चलेगा तथा एनईईटी पाठ्यक्रम को आपको समझने में सहायता मिलेेगी.
सदैव याद रखें....
1.एनईईटी 2017 परीक्षा में नकारात्मक अंक प्रणाली है. अत: यदि आपको प्रश्नों के उत्तर नहीं आते हैं तो इन्हें छोड़ दें. अनुमान के आधार पर प्रश्न हल नहीं करें क्योंकि इससे आपके गलत उत्तर के लिये अंक काटे जा सकते हैं.
2.एनईईटी परीक्षा की तैयारी के दौरान अपने स्वास्थ्य की देखभाल करना बहुत महत्वपूर्ण है. जंक फूड से बचें और कम से कम छह घण्टों की नींद लेने की कोशिश करें. 15 मिनट की सैर अथवा ध्यान अथवा समय-समय पर बैडमिंटन का एक राउंड आपको बेहतर ध्यान केंद्रित करने और अधिक चौकस रखने में मददगार हो सकता हैं
3.अपने मोबाइल फोन और लैपटॅाप को बंद कर दें. यह समय आपको सोशल मीडिया से दूर रहने और इस समय को अपनी एनईईटी की तैयारी में लगाने का है.
4.अपने आप में प्रेरणा भरते रहें. सकारात्मक सोचें और अपने आप पर भरोसा रखें.
लेखक नई दिल्ली स्थित कॅरिअर काउंसलर हैं. ई-मेल:rruchishrimalli@gmail.com चित्र: गूगल के सौजन्य से