नौकरी फोकस


Volume-16

स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के रूप में कॅरिअर

श्रीप्रकाश शर्मा

कॅरिअर के अन्य विकल्पों के घुमाव, जिसका उम्मीदवार अपने जीवन के लिए अत्यधिक गंभीरतापूर्वक पीछा करते हैं, उससे अलग किसी स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर का व्यवसाय मुख्य रूप से वाकपटुता के गुण और वह भी तात्कालिक परिशुद्ध, अद्वितीय तथा नवप्रवर्तित भाषा की गुणवत्ता एवं आकर्षक व्यक्तित्व से आगे बढ़ता है. स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटरशब्द हमारे समक्ष किसी ऐसे व्यक्ति की छवि स्वाभाविक रूप में प्रस्तुत करता है जो क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, तथा विभिन्न अन्य खेलों तथा क्रीडा के वर्णनकर्ता या आंखों देखा हाल प्रस्तुतकर्ता के रूप में कार्य करता है.
किसी स्पोर्ट्स  कॉमेन्टेटर का मुख्य कार्य किसी खेल मद का आंखों देखा हाल प्रस्तुत करना होता है. ये सेलेब्रेटी व्यवसायी रेडियो पर खेलों का ताजा वर्णन करते हैं और दूरदर्शन पर खेल के मैदान में चल रही गतिविधियों का आखों देखा हाल प्रस्तुत करने के लिए टिप्पणियां करते हैं.
खिलाडिय़ों के साथ बात करना, उनका साक्षात्कार लेना और उनकी टिप्पणी प्राप्त करना, खेलों के बीच सूचना प्राप्त करना आदि अन्य ऐसे महत्वपूर्ण कार्य हैं जो किसी स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर द्वारा किए जाते हैं. वैश्वीकरण और १९९० दशक के उदारीकरण की सुधार अवधि के पश्चात खेल कॉमेन्टेटर के रूप में कॅरिअर अत्यधिक वेतनग्राही, आकर्षक और रोचक कॅरिअर विकल्प के रूप में उभरा है.
अनिवार्य पात्रताएं :
वास्तव में स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के रूप में उम्मीदवार द्वारा अपना विकास किए जाने या प्रशिक्षित या विशेषज्ञ बनने के लिए कोई विशिष्ट संस्थान या विशेष पाठ्यक्रम नहीं है.
इस क्षेत्र में सबसे अधिक महत्वपूर्ण यह है कि खेल एवं संबंधित खेल मदों की कार्य प्रणाली का व्यापक ज्ञान एवं अनुभव होना चाहिए. तथापि, एक सफल स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के रूप में अपना कॅरिअर बनाने के इच्छुक उम्मीदवार में निम्नलिखित पात्रताएं होनी चाहिएं :
१. इस क्षेत्र में कॅरिअर बनाने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए प्रसारण, संचार या पत्रकारिता में चार वर्षीय स्नातक डिग्री होना आवश्यक है.
२. धाराप्रवाह बोलना, स्पष्ट लेखन और ध्यानपूर्वक सुनना इस क्षेत्र के लिए अनिवार्य गुण हैं जो इस अपारम्परिक व्यवसाय के कौशल की कुंजी हैं.
३. एक आकर्षक व्यक्तित्व तथा प्रसारण उपस्करों एवं दूरसंचार प्रणाली का ज्ञान ऐसी विशिष्ट अनिवार्य अपेक्षा है जो इस क्षेत्र में कॅरिअर बनाने में सहायता करती है.
४. कार्यकालीन प्रशिक्षण-अनुभव उम्मीदवारों को इस क्षेत्र में कॅरिअर बनाने की रुचि रखने वाले अन्य उम्मीदवारों की तुलना में लाभकारी देगा.
५. एक स्पष्ट, दमदार एवं मधुर वाणी किसी भी स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर का एक महत्वपूर्ण गुण होती है क्योंकि रेडियो अथवा दूरदर्शन अथवा किसी मंच पर किसी कॉमेन्टेटर की वाणी स्रोताओं/दर्शकों के हृदय में मिठास घोलती है. इसके लिए बोली एवं वाणी प्रशिक्षण एक बहुत बड़ी अपेक्षा है.
६. खेलों के प्रति असीम लगाव और उन खेलों के खिलाडिय़ों में अत्यधिक रुचि रखते हों.
इसके अतिरिक्त, एक प्रत्याशित स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर विपरित और विषम परिस्थितियों में भी अपना कार्य निष्पादित करने के लिए समर्पित-भावपूर्ण व्यक्तित्व रखता हो.
७. विभिन्न खेलों और स्पोर्ट्स में अपनी जानकारी अद्यतन रखने की अनंत जिज्ञासा होनी चाहिए.
८. जीत और हार के आनंद और दर्द का आभास रखते हों और इसी के साथ साथ खेल मदों के जो भी परिणाम आएं उनके प्रति तटस्थ रहने वाले हों.
९. भावात्मक रूप से स्थिर हों तथा दबाव एवं तनाव में कार्य करने में सक्षम हों.
१०. खेल सांख्यिकी और खिलाडिय़ों की विभिन्न वर्षों की उपलब्धियों और उनके विस्तृत जीवन-वृत  का उल्लेख करने के लिए तीक्ष्ण स्मृति रखते हों.
११. श्रवण योग्य एवं स्पष्ट वाणी, शैली, सामंजस्य तथा लहजा शुद्ध एवं अत्यधिक धारा प्रवाह होना चाहिए.
१२. मैदान में तथा उसके बाहर कॉमेन्टरी करने के दौरान महत्वपूर्ण एवं कम ज्ञात सांख्यिकी, तथ्यों, रिकॉर्डों एवं आकर्षक किस्सों की जानकारी देते हुए कॉमेन्टरी करने की क्षमता होनी चाहिए.
वेतन :
स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर का वेतन ढांचा एवं वेतन पैकेज आकर्षक एवं निजी अनुभव, उम्मीदवार की ख्याति एवं उन्हें रखने वाली प्रसारण कंपनियों के ब्रांड पर आधारित होता है. कभी-कभी यह स्थान एवं देश पर भी निर्भर होता है.
तथापि दूरदर्शन के कॉमेन्टेटरों को रेडियो कॉमेन्टेटर से अधिक राशि का भुगतान किया जाता है. किन्तु यहां भी वेतन में विभिन्न होने का कारण, प्रस्तुति की गुणवत्ता और कॉमेन्टेटरों की प्रसिद्धी के स्तर का अलग होना है. भारत में किसी स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर का एंट्री लेवल वेतन ५०००/- रुपये से १००००/- रुपये प्रतिदिन होता है. यह अन्य बात है कि अधिक अनुभवी एवं प्रतिष्ठित कॉमेन्टेटर २५०००/- रुपये प्रतिदिन का ऊंचा वेतन भी लेते हैं.
कैसे और कहां से प्रारंभ करें:
इस क्षेत्र में कॅरिअर बनाने के इच्छुक उम्मीदवार को इंटर्नशिप से प्रारंभ करना चाहिए. यहां तक कि अध्ययन के दौरान भी इच्छुक स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर- छात्र खेल फ्रेंचाइजीज, खेल संगठनों, खेल प्रसारण कंपनियों एवं समाचार चैनलों के साथ कार्य करके अपेक्षित अनुभव प्राप्त कर सकते हैं. ऐसी कोई इंटर्नशिप भी उम्मीदवारों को हाई प्रोफाइल व्यवसायियों के साथ कार्य करने का अवसर देती हैं और इसके द्वारा कोई भी उम्मीदवार अपना वह कौशल प्राप्त कर सकता है जो इस क्षेत्र में बने रहने और भावी सफलता के लिए अत्यधिक आवश्यक है.
तथापि, इस क्षेत्र में अनुभव, उन्नति के लिए अत्यधिक अनिवार्य है जो स्कूल, एवं कॉलेज स्तर के खेलों में और स्थानीय क्षेत्रों के अन्य खेलों में कॉमेन्टरी प्रारंभ करने के साथ प्राप्त कर सकते हैं.
अधिकांश कॉमेन्टेटर अपना शानदार कॅरिअर स्पोर्ट्स  रिपोर्टर की हैसियत से भी प्रारंभ करते हैं. किन्तु यह स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के क्षेत्र में प्रवेश करने का एक मात्र पथ नहीं है.
कई वरिष्ठ खिलाड़ी, एथलीट और सेवानिवृत्त कोच स्पोर्ट्स कॉमेंन्टेटर के रूप में कार्य करते हैं. इस समय  तेजी से पनप रही प्रवृति के अनुसार सेवानिवृत्त क्रिकेटर एवं कोच एक क्रिकेट कॉमेन्टेटर की भूमिका निभाते हैं और उन्हें प्रसारण कंपनियां आकर्षक वेतन भी देती हैं. तथापि, कॉलेज इस क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए एक बहुत अच्छा प्लेटफॉर्म हैं. कॉलेज में ‘‘छात्र रेडियो स्टेशन’’ होता है और यह उम्मीदवारों को आखों देखे हाल का प्रसारण करने का अनुभव प्राप्त करने का सुनहरा अवसर देता है.
संस्थान
चूंकि कॅरिअर के इस क्षेत्र में कोचिंग संस्थानों की कमी है इसलिए जो छात्र स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर को एक कॅरिअर के रूप में बनाने के इच्छुक हैं उन्हें इस अत्यधिक प्रतिस्पर्धी बाजार में खड़ा होने के लिए स्वयं को खुद ही तैयार करना चाहिए. इस क्षेत्र में आने वाले किसी भी व्यक्ति को धाराप्रवाह एवं अत्यधिक शुद्ध रूप में अंग्रेजी बोलने, व्यक्तित्व विकास एवं संचार कौशल तथा मधुर एवं श्रवण योग्य वाणी जैसे पाठ्यक्रम करने चाहिए जिससे इन्हें अन्य उम्मीदवारों की तुलना में वरीयता मिल सके. खेल पत्रकारिता और एंंंकरिंग, रेडियो जॉकिंग में कोई पाठ्यक्रम आपको एक व्यावसायिक स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर बनने में पर्याप्त रूप से सहायता दे सकता है.
यद्यपि, अत्यधिक प्रचार एवं एक्सपोजर के क्षेत्र में जनसंचार एवं पत्रकारिता में डिग्रियां प्रवेश पात्रता के रूप में मानी जाती है किन्तु उससे भी अधिक उम्मीदवार के लिए यह अत्यधिक आवश्यक है कि वह इस क्षेत्र में व्यक्तिगत अनुभव और नवप्रवर्तित कौशल प्राप्त करें.
स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के कार्यों का विवरण:
किसी दूरदर्शन चैनल पर एक कॉमेन्टेटर के रूप में कार्य करना और खेल मदों का आंखों देखा विवरण देना, जिसे दर्शक लाइव देखते हैं, अब एक फैशन बन गया है और जब तक वह खेल समाप्त नही हो जाता तब तक व्यक्ति अपने दूरदर्शन से चिपक कर बैठे रहते हैं.
वास्तव में स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर दो तरह के होते हैं:-
खेल प्रति खेल कॉमेन्टेटर जिसे वास्तव में एक उद्घोषक कहा जाता है. मुख्य रूप से वह यह लेखा-जोखा देता है कि मैदान में क्या हो रहा है. दूसरे प्रकार का कॉमेन्टेटर- कलर कॉमेन्टेटर होता है. कलर कॉमेन्टेटर को वह अतिरिक्त रिपोर्ट देनी होती है जो खेल के मैदान में वास्तव में घटित हो रही है.
रिपोर्टिंग के अतिरिक्त कलर कॉमेन्टटर मैदान में जो हो रहा है उसका विश्लेषण और आंतरिक जानकारी देने के लिए भी जिम्मेदार होता है. उसे खेल का व्यापक ज्ञान होना आवश्यक होता है जबकि खेल प्रति खेल कॉमेन्टेटर मैदान पर हो रही गतिविधियों की रिपोर्ट देता है और कलर कॉमेन्टेटर का कार्य अतिरिक्त एवं पूरक सूचना एवं सांख्यिकी द्वारा गैप को भरने और दर्शकों/स्रोताओं को खेलों के इतिहास एवं कम ज्ञात तथ्यों से अवगत कराना है. ताकि कॉमेन्टरी अधिक सूचनाप्रद एवं रोचक बन सके.
कार्य संभावनाएं एवं कॅरिअर के विकल्प:
किसी भी स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के लिए रेडियो केन्द्रों और दूरदर्शन प्रसारण क्षेत्रों में रोज़गार के व्यापक अवसर होते हैं. रेडियो केन्द्रों को स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के क्षेत्र में एक शानदार कॅरिअर का प्रवेश द्वार माना जाता है. रेडियो केन्द्रों में प्रारंभिक किन्तु बुनियादी अनुभव प्राप्त करके कोई भी व्यक्ति दूरदर्शन जगत के विभिन्न उपग्रह चैनलों के चमत्कारिक युग में प्रवेश कर सकते हैं. प्रारंभ में किसी भी व्यक्ति को किसी स्थानीय रेडियो केन्द्र के लिए स्थानीय खेल मदों पर कॉमेन्टरी करने के लिए कहा जा सकता है. इस बुनियादी अनुभव के साथ बड़े एवं प्रसिद्ध संगठनों और दूरदर्शन चैनलों में रोज़गार के उच्च अवसर प्राप्त करना आसान हो जाता है.
स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटरों को विभिन्न समाचार पत्र, रेडियो केन्द्र एवं दूरदर्शन केन्द्र भी रोज़गार पर रखते हैं ताकि वे मैदान में वास्तव में हो रही घटनाओं पर टिप्पणी कर सकें. स्टार स्पोर्ट्स, ईएसपीएन, टेन स्पोर्ट्स , जी स्पोर्ट्स  और दिल्ली दूरदर्शन जैसे खेल चैनल स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर कार्य पर रखते हैं और उन्हें आकर्षक वेतन व अन्य लाभ भी देते हैं.
स्पोर्ट्स कॉमेन्टेटर के आकर्षक कॅरिअर का दूसरा पक्ष यह भी है कि विश्वभर के देशों में अत्यधिक व्यापक रोज़गार अवसरों का अभाव है किन्तु किसी को परेशान एवं हताश होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि केवल आपका निश्चय, ज्ञान, अनुभव, इच्छा शक्ति अदम्य साहस एवं कार्य समपर्ण आपको विश्व के उस शिखर पर पहुंचा सकता है, जिसे दुनिया विश्वभर में अब तक का श्रेष्ठ कॉमेन्टेटर कहेगी.
लेखक जवाहर नवोदय विद्यालय, बिरौली में अध्यापक हैं ई-मेल : - spsharma.rishu@gmail.com
आलेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं)
चित्र: गूगल के सौजन्य से