विशेष लेख


Volume-7, 19-25 May, 2018

 
स्वच्छ भारत ग्रीष्मकालीन इंटर्नशिप


केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने छात्रों से आग्रह किया है कि वे स्वच्छ भारत ग्रीष्मकालीन इंटर्नशिप- स्वच्छता के 100 घंटेअभियान में भाग लेकर राष्ट्रव्यापी स्वच्छता मिशन का हिस्सा बनें. इस अभियान को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय के सहयोग से चलाया है. इसका मकसद देश भर के युवाओं को स्वच्छता संबंधित कार्यों और ग्राम स्तरीय विकास में शामिल करना है. एक मई से 31 जुलाई तक चलने वाले इस कार्यक्रम में युवाओं में स्वच्छता से संबंधित कार्यों के लिये कौशल और सोच विकसित करने का प्रयास किया जायेगा. इसके उद्देश्यों में देश भर के युवाओं को महात्मा गांधी के 150वें जन्मदिवस के मद्देनजर स्वच्छता क्रांति में उल्लेखनीय योगदान के लिये सामने लाना और ग्रामीण क्षेत्रों में सामुदायिक सेवा से जोडऩा शामिल है.
कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के छात्र प्रवेश फॉर्म भर कर स्वच्छ भारत ग्रीष्मकालीन इंटर्नशिपके लिये आवेदन कर सकते हैं. छात्र इसमें निजी तौर पर या समूह के रूप में हिस्सा ले सकते हैं. स्थल और समूह के आकार का फैसला नोडल अधिकारी के साथ विचार-विमर्श के बाद किया जायेगा. वेबसाइट के जरिये इंटर्नशिप में प्रवेश के बाद उम्मीदवार को मूल संस्थान के नोडल अधिकारी से मंजूरी मिलने के पश्चात् इंटर्न के रूप में मान्यता दी जायेगी. उम्मीदवारों को खुद चुने उन ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता से जुड़ी गतिविधियों पर कम-से-कम 100 घंटे लगाने होंगे जिनको मूल संस्थान से मंजूरी दी गयी है.
उम्मीदवारों को अपना क्षेत्रीय कार्य खत्म करने के 15 दिनों के अंदर निर्धारित प्रारूप में अपनी रिपोर्ट ऑनलाइन पोर्टल पर सौंपनी होगी. नोडल अधिकारी प्रमाणपत्र और पुरस्कार के लिये ऑनलाइन रिपोर्टों की समीक्षा कर उन्हें मंजूरी देंगे. हर भागीदार को इंटर्नशिप पूरी होने पर स्वच्छ भारत इंटर्नशिप प्रमाणपत्र और मूल संस्थान से इसकी स्वीकृति दी जायेगी. मूल संस्थान जिन इंटर्नों की इंटर्नशिप रिपोर्ट को योग्य पायेगा उन्हें दो क्यूरिकुलम क्रेडिट दिये जायेंगे. कॉलेज, विश्वविद्यालय, राज्य और देश के स्तर पर तीन सर्वश्रेष्ठ इंटर्नों और टीमों की पहचान कर उन्हें पुरस्कृत किया जायेगा.
*कॉलेज स्तर पर विजेताओं को शील्ड या कप और विशेष प्रमाणपत्र प्रदान किये जायेंगे.
*विश्वविद्यालय स्तर पर विजेताओं को प्रमाणपत्र के अलावा 30000, 20000 और 10000 रुपये के नकद इनाम भी दिये जायेंगे.
*राज्य स्तरीय विजेताओं को समुचित प्रमाणपत्र के अलावा 50000, 30000 और 20000 रुपये के नकद पुरस्कार प्रदान किये जायेंगे.
*राष्ट्रीय स्तर पर विजेताओं को प्रमाणपत्र के अलावा दो लाख, एक लाख और 50000 रुपये के नकद इनाम मिलेंगे.                                                                   

 -पत्र सूचना कार्यालय