विशेष लेख


Volume-51, 17-29 March, 2018

 

 

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर स्वच्छ भारत के संचालन का दृढ़ संकल्प लेते हुए 15000 महिला स्वच्छ भारत चैंपियनों के साथ लखनऊ में स्वच्छ शक्ति 2018 का आयोजन

उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने लखनऊ में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 8 मार्च को स्वच्छ शक्ति 2018 नामक महिला समागम का आयोजन किया. देश भर से 8000 महिला सरपंचों, 3000 महिला स्वच्छाग्रहियों और जीवन के अन्य क्षेत्र से महिला चैंपियनों को स्वच्छ भारत बनाने में अपने उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित किया गया.

पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री सुश्री उमा भारती, अन्य मंत्रियों के साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और अन्य संभ्रांत जनों ने इस अवसर पर महिला चैंपियनों को संबोधित एवं सम्मानित किया.

इस अवसर पर बोलते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उन्हें यह विश्वास है कि इस अवसर पर उपस्थित महिला स्वच्छाग्रहियों की स्वच्छ शक्ति महिला सशक्तिकरण आंदोलन को आगे ले जाने में सहायता करेगी. उन्होंने महिलाओं के जीवन को परिवर्तित करने में सुरक्षित स्वच्छता और पेयजल के               पहुंच की शक्ति के बारे में कहा. उन्होंने ग्रामीण महिला के जीवन की गुणवत्ता के सुधार की दिशा में उत्तर प्रदेश सरकार की पहलों जैसे कि ग्रामीण महिलाओं के लिए रोजग़ार सृजन, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और उज्ज्वला के बारे में विस्तार से बताया.

सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री सुश्री उमा भारती घर और समाज में परिवर्तन लाने के बारे में महिला की शक्ति के बारे में बोलीं. उन्होंने अक्तूबर 2018 तक राज्य को खुले में मलत्याग मुक्त (ओडीएफ) बनाने के उत्तर प्रदेश सरकार की वचनबद्धता की सराहना की. उन्होंने कहा कि शौचालय के अलावा रजो स्वच्छता प्रबंधन (एम एच एम) के लिए उत्पादों के वृहत् विकल्प तक पहॅुंच प्रत्येक महिला एवं किशोर लड़कियों का अधिकार है.

केंद्रीय तथा राज्य मंत्रियों और सचिव, एम डी डब्ल्यू एस ने भी सभा को संबोधित किया.

पिछले वर्ष स्वच्छ शक्ति 2017 के बैनर तले अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर गुजरात में देश भर से 6000 महिला सरपंच एकत्रित हुई थीं. उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संबोधित एवं सम्मानित किया गया.

इस वर्ष विशाल ग्रामीण आबादी बाला सबसे बड़ा राज्य होने के कारण उत्तर प्रदेश ने स्वच्छ शक्ति 2018 की मेजबानी की. समारोह में विशेष प्रदर्शनी, स्वच्छ शक्ति के आयोजन पर फिल्म का शुभारंभ और 30 स्वच्छ रथों की रवानगी शामिल थी. यह रथ प्रदेश भर में यात्रा करेंगे और आधार स्तर पर स्वच्छता के संदेश को प्रसारित करेंगे.

इस बीच देश भर में अनेक राज्यों ने स्वच्छ शक्ति 2018 के भाग के रूप में महिला स्वच्छता चैंपियनों को सम्मानित करने के लिए जन समारोहों का आयोजन किया.

2 अक्तूबर, 2014 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य 2 अक्तूबर, 2019 तक स्वच्छ एवं खुले में मलत्याग मुक्त (ओ डी एफ) भारत प्राप्त करना है. समग्र प्रयासों के साथ 314 जिलों एवं 3.23 लाख गॉंवों और 9 राज्यों एवं 2 संघशासित क्षेत्रों को ओ डी एफ घोषित किया गया है. स्वच्छ भारत मिशन के प्रारंभ से स्वच्छता दायरा 38.70 प्रतिशत से बढक़र 78.98 प्रतिशत होकर दोगुणे से अधिक हो गया है.