विशेष लेख


Special Article 45

विदेश में स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए ग्रैजुएट रिकॅार्ड एग्जामिनेशन्स (जीआरई)
यानि स्नातक स्तरीय परीक्षाएं उत्तीर्ण करें

आर. रुचि श्रीमाली

ग्रैजुएट रिकॅार्ड एग्जामिनेशन्स (जीआरई) यानी स्नातक स्तरीय परीक्षाओं का संचालन एजुकेशनल टेस्टिंग सर्विस (ईटीएस) द्वारा उन उम्मीदवारों के लिए एक मानक परीक्षा के रूप में किया जाता है, जो स्नातकोत्तर स्तरीय अध्ययन पाठ्यक्रमों के लिए विदेश में दाखिला लेने के इच्छुक हों. भारतीय विद्यार्थियों के लिए अमरीका और अन्य प्रमुख लक्षित देशों के अधिकतर ग्रैजुएट स्कूल जीआरई स्कोर को स्वीकार करते हैं.

विश्वभर के 1,100 से अधिक बिजनेस स्कूल और हजारों ग्रैजुएट स्कूल जीआरई स्कोर को स्वीकार करते हैं. फरवरी, 2015 में 1.1 लाख से अधिक भारतीय विद्यार्थी जीआरई परीक्षा में बैठे. 2014 की तुलना में यह संख्या करीब 20 प्रतिशत अधिक थी. इससे पता चलता है कि अधिकाधिक भारतीय विद्यार्थी विदेश में पढऩे के अवसरों की तलाश कर रहे हैं.

भारत में, आप इस परीक्षा का केवल कम्प्यूटर आधारित संस्करण ही अपना सकते हैं. जीआरई परीक्षा के लिए पंजीकरण शुल्क 195 अमरीकी डॉलर है. परीक्षा कार्यक्रम में संशोधन या परीक्षा केंद्र में परिवर्तन के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को 50 अमरीकी डॉलर का अतिरिक्त भुगतान करना होता है.

जीआरई परीक्षा दो प्रकार की होती है:

जीआरई सामान्य परीक्षा: यह परीक्षा आपकी भाषिक तर्क योग्यता, मात्रात्मक तार्किकता और विश्लेषणात्मक लेखन कौशल का मूल्यांकन करती है. इसमें स्कोर सिलेक्ट विकल्प होता है, जिसका अर्थ है कि यदि आप परीक्षा के दिन बेहतर निष्पादन नहीं करते हैं, तो आप फिर से परीक्षा दे सकते हैं और स्कोर (अंकों) का चयन कर सकते हैं, जो आप अपने लक्षित ग्रैजुएट स्कूलों या बिजनेस स्कूलों को भेजना चाहते हैं.

जीआरई विषय परीक्षाएं : इन परीक्षाओं का संबंध किसी एक विषय में आपकी दक्षता का मूल्यांकन करने के साथ है. विषय से संबंधित स्कोर (अंक) आपको अन्य आवेदकों से प्रतिस्पर्धा करने में सहायक होते हैं, जो एक खास विषय में आपके ज्ञान और कौशल पर बल देेते हैं. वर्तमान में आप निम्नांकित विषयों में परीक्षाएं दे सकते हैं:

*बायोकैमिस्ट्री, सेल और मोलिक्यूलर बायोलॉजी
*बायोलॉजी
*कैमिस्ट्री
*अंग्रेजी साहित्य
*गणित
*भौतिक विज्ञान
*मनोविज्ञान
इस आलेख में हम जीआरई सामान्य परीक्षा पर विचार करेंगे, जो अधिक लोकप्रिय है.

जीआरई परीक्षा किसके लिए?:

विश्वभर में स्नातकोत्तर स्तर के पाठ्यक्रमों, एमबीए, बिजनेस में विशेषज्ञतापूर्ण स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों अथवा डॉक्टरल पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने के इच्छुक संभावनाशील विद्यार्थी जीआरई सामान्य परीक्षा का विकल्प अपनाते हैं. यह परीक्षा दाखिला समितियों अथवा फेलोशिप पैनलों को समान स्तर पर विभिन्न उम्मीदवारों की योग्यताओं की तुलना करने में मदद करती है, भले ही उनकी शैक्षिक अथवा सांस्कृतिक पृष्ठभूमि कोई भी क्यों न रही हो.

जीआरई का आयोजन 160 से अधिक देशों में 1,000 से अधिक परीक्षा केंद्रों पर किया जाता है. भारत में आप पूरा साल जीआरई परीक्षा दे सकते हैं. परंतु, नियुक्तियां पहले आओ, पहले पाओ आधार पर की जाती हैं. जीआरई प्राधिकारियों को आपके लक्षित संस्थानों तक आपका स्कोर भेजने में परीक्षा देने के बाद करीब 10-15 दिन का समय लग जाता है. यदि आप प्रथम प्रयास में बेहतर स्कोर हासिल नहीं कर पाते हैं, तो आप अगले 21 दिन (12 महीने की अवधि में 5 बार) के भीतर पुन: परीक्षा दे सकते हैं. इसलिए, सुनिश्चित करें कि आपका स्कोर समय पर रिपोर्ट किया जाए, सुनिश्चित करें कि अपने दाखिले की समय सीमा से करीब 2-3 महीने पहले आपने जीआरई परीक्षा दी है.

जीआरई परीक्षा पद्धति

कम्प्यूटर-आधारित जीआरई जनरल टैस्ट की अवधि 3 घंटे 45 मिनट होती है. तीसरा खंड पूरा करने के बाद आपको इसमें 10 मिनट का ब्रेक लेने की अनुमति दी जाती है. प्रत्येक परवर्ती खंड में आपको केवल एक मिनट का ब्रेक मिलता है.

परीक्षा का पहला खंड हमेशा विश्लेषणात्मक लेखनखंड होता है. इसमें दो अलग अलग समयबद्ध कार्य करने होते हैं - किसी विषय का विश्लेषण करना और किसी तर्क का विश्लेषण करना. प्रत्येक कार्य को पूरा करने के लिए आपको 30 मिनट का समय दिया जाता है.

इस खंड के बाद भाषिक तर्क योग्यता खंड, मात्रात्मक तर्क योग्यता खंड और एक अंकरहित खंड (जो किसी भी प्रकार का हो सकता है) आते हैं, जो किसी भी क्रम में आ सकते हैं. भाषिक तर्क योग्यता और मात्रात्मक तर्क योग्यता में प्रत्येक खंड के दो अनुभाग होते हैं. प्रत्येक खंड में 20 प्रश्न पूछे जाते हैं. प्रत्येक भाषिक तर्क योग्यता खंड के समाधान के लिए आपको 30 मिनट और प्रत्येक मात्रात्मक तर्क योग्यता खंड के समाधान के लिए 35 मिनट का समय दिया जाता है. अंकरहित खंड की गणना आपके स्कोर के लिए नहीं की जाती है, परंतु चूंकि वे आपके भाषिक तर्क योग्यता और मात्रात्मक तर्क योग्यता खंड के साथ मिश्रित होते हैं, इसलिए आपको प्रत्येक खंड में अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन करना चाहिए.

अंत में, हमेशा एक अनुसंधान खंड होता है, जिसकी गणना आपके स्कोर के लिए नहीं की जाती है. ईटीएस द्वारा इसे अनुसंधान के प्रयोजनों के लिए शामिल किया जाता है.

जीआरई एक प्रयोक्ता-अनुकूल परीक्षा है. आप किसी खंड में प्रश्नों से स्किप कर सकते हैं, किन प्रश्नों का उत्तर पहले देना है, यह चुनाव कर सकते हैं, और वापस जाकर अपने उत्तरों को बदल सकते हैं. परंतु, आपको यह ध्यान अवश्य रखना होगा कि भले ही कोई प्रश्न ऐसा दिखता हो, जिसका उत्तर देने का आप प्रयास कर चुके हों, लेकिन शब्दों में थोड़े से हेरफेर का यह अर्थ समझा जाएगा कि आपने अलग उत्तर दिया है. इसलिए प्रश्नों को ध्यानपूर्वक पढ़ें.

भाषिक तर्क योग्यता खंड

भाषिक तर्क योग्यता खंड के अंतर्गत शब्दों, वाक्यों और पाठ सामग्री का अर्थ समझने की आपकी योग्यता, और धारणाओं के बीच संबंध कायम करने; महत्वपूर्ण बिंदुओं का चयन करने और पाठ सामग्री का सारांश समझने, और किसी व्याख्यान का विश्लेषण करने और उससे निष्कर्ष निकालने, अपूर्ण आंकड़ों का इस्तेमाल करने; और लेखक का अभिप्राय: समझने की आपकी योग्यता का मूल्यांकन किया जाता है.

इसमें मुख्य रूप से तीन प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं:

वाचन बोध : इसमें बहु-विकल्प प्रकार के प्रश्नों के उत्तर दिए जाते हैं. इनमें से कुछ ऐसे हो सकते हैं जिनका केवल एक उत्तर होता है, जबकि अन्य ऐसे होते हैं जिनके एक या अधिक सही उत्तर होते हैं. परवर्ती मामले में आपको तभी अंक मिलते हैं, जब आप सभी सही उत्तरों का चयन करते हैं. आंशिक रूप से सही उत्तरों के लिए आपको कोई अंक नहीं मिलता है. इस खंड में चुने हुए अनुच्छेद प्रकार के प्रश्न भी शामिल किए जाते हैं, जिनमें विद्यार्थियों को प्रश्न का उत्तर देने के लिए किसी एक वाक्य का चयन करना होता है. अनुच्छेद एक से पांच पैराग्राफ तक लंबे हो सकते हैं और शैक्षिक और गैर-शैक्षिक स्रोतों से उद्धृत किए जा सकते हैं.

पाठ परिपूर्णता : इन प्रश्नों में एक अनुच्छेद शामिल होता है, जो आमतौर पर एक से पांच वाक्यों जितना लंबा होता है, और उसमें एक से तीन तक खाली स्थान होते हैं. आपको खाली स्थानों को भरने के लिए सही विकल्पों का चयन करना पड़ता है.

वाक्य तुल्यता : प्रत्येक प्रश्न में एकल वाक्य होता है और उसमें एक खाली स्थान होता है. सामान्यत: आपको प्रश्नपत्र में दिए गए 6 विकल्पों में से 2 विकल्पों का चयन करना होता है. आंशिक सही उत्तरों के लिए आपको कोई अंक नहीं मिलता है.

मात्रात्मक तर्क योग्यता : मात्रात्मक तर्क योग्यता खंड के अंतर्गत समस्याओं के समाधान में बुनियादी धारणाओं और अंकगणित, बीजगणित, ज्यामिति और आंकड़ा विश्लेषण के गणितीय मॉडलों के अनुप्रयोग; और मात्रात्मक सूचना को समझने, उसकी व्याख्या करने और उसका विश्लेषण करने की आपकी योग्यता का मूल्यांकन किया जाता है. अच्छी बात यह है कि इस खंड के समाधान के लिए आप ऑन-स्क्रीन कैलकुलेटर का इस्तेमाल कर सकते हैं. खराब बात यह है कि यह निहायत बुनियादी किस्म का होता है और उसमें कोई एडवांस्ड फीचर नहीं होते हैं.

मात्रात्मक तर्क योग्यता संबंधी प्रश्नों में कुछ वास्तविक जीवन स्थितियों से सम्बद्ध प्रश्न शामिल किए जाते हैं, जबकि अन्य प्रश्न विशुद्ध रूप से गणितीय व्यवस्थाओं पर आधारित होते हैं. ज्यादातर प्रश्न शाब्दिक समस्याओं के होते हैं और उनका समाधान करने के लिए कक्षा 12 स्तर के गणित और सांख्यिकी का इस्तेमाल किया जाता है. आमतौर पर इस खंड में ट्रिग्नोमेट्री और कैलकुलस जैसे जटिल विषय शामिल नहंी किए जाते हैं.

हमेशा याद रखें कि कोआर्डिनेट सिस्टम (जैसे नंबर लाइन्स और एक्सिलिम्स), और ग्राफिक्स आमतौर पर स्केल से ड्रा किए जाते हैं. परंतु, ज्यामितिक आंकड़ों का स्केल से ड्रा किया जाना जरूरी नहीं है. अत: आपको ज्यामितिक आकृतियों से संबंधित प्रश्नों का उत्तर अपने दृश्य अनुमान की बजाए तर्क अनुसार देने का प्रयास करना चाहिए.

मात्रात्मक तर्क योग्यता खंड के अंतर्गत मात्रात्मक तुलना, संख्यात्मक प्रविष्टि संबंधी प्रश्न और एमसीक्यूज़ शामिल किए जाते हैं, जिनके एक या एक से अधिक उत्तर होते हैं. इनमें से अनेक प्रश्न ऐसे हो सकते हैं, जो डेटा इंटरप्रटेशन सेट का हिस्सा हों, जिनमें आपको समस्याओं का समाधान करने के लिए तालिकाओं, आरेखों या आंकड़ों की व्याख्या करने के अन्य प्रारूपों का इस्तेमाल करना पड़ सकता है.

विश्लेषणात्मक लेखन

विश्लेषणात्मक खंड के अंतर्गत समीक्षात्मक ढंग से सोचने, दावों का परीक्षण करने, जटिल विचारों को स्पष्ट और प्रभावकारी रूप में प्रस्तुत करने, और एक सुकेंद्रित विचार विमर्श को आधार प्रदान करने की आपकी योग्यता का मूल्यांकन किया जाता है. इसमें दो कार्य शामिल होते हैं:

किसी मुद्दे का विश्लेषण : इस कार्य के अंतर्गत आपको सामान्य हित के किसी मुद्दे के बारे में अपनी राय प्रस्तुत करनी होती है. आपको अपने तर्क का समर्थन कारणों और उदाहरणों से करना होता है.

किसी तर्क का विश्लेषण : इस कार्य के अंतर्गत आपको किसी निर्दिष्ट तर्क का मूल्यांकन विशेष अनुदेशों के अनुसार करने को कहा जाता है. इसमें निर्दिष्ट स्थिति से आपके सहमत या असहमत होने में तथ्यों से अधिक आपकी तर्क क्षमता का अधिक महत्व है.

प्रथम कार्य के अंतर्गत आपको किसी मुद्दे के बारे में अपनी स्थिति बतानी होती है और साक्ष्यों के साथ उसका समर्थन करना होता है. दूसरे कार्य में आपको किसी अन्य के तर्क का मूल्यांकन करना होता है और उसके द्वारा प्रस्तुत दावों और साक्ष्यों का मूल्यांकन करना होता है. ध्यान रखें कि आपको इस्तेमाल करने के लिए जो वर्ड प्रोसेसर मिलेगा, वह बुनियादी किस्म का होगा और उसमें स्पैल चेकर या ग्रामर चैकर जैसी सुविधाएं नहीं होंगी. इसलिए आपको उत्तर देते समय स्पेलिंग और ग्रामर पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होगी.

विश्लेषणात्मक लेखन खंड की तैयारी के लिए प्रत्येक कार्य हेतु नमूना विषयों, निबंधात्मक उत्तरों और पाठक टिप्पणियों की समीक्षा करें. इस बात से यह समझने में मदद मिलेगी कि निबंधों का मूल्यांकन कैसे किया जाता है और निर्दिष्ट कार्यों में अधिकतम अंक प्राप्त करने में आप रणनीतियों का विकास कैसे कर सकते हैं. इस खंड के लिए टाइम मैनेजमेंट अत्यंत महत्वपूर्ण है. आपको मुद्दे या तर्क तक पहुंचने के लिए समय की आवश्यकता होती है, अनुदेशों को ध्यानपूर्वक पढ़ें, उत्तर की योजना बनाएं, और अपना निबंध लिखें. अंत में कुछ मिनट बचा कर रखना अच्छा होता है ताकि तेजी से अपने निबंध को आप पढ़ सकें और स्पेलिंग या ग्रामर की कोई त्रुटि हो तो उसे ठीक कर सकें, जो अन्यथा आपके लेखन की समग्र प्रभावकारिता के अंकों में कमी ला सकती है.

आपके लिए 6 उत्कृष्ट कार्यनीतियां

1.याद रखें कि ईटीएस परीक्षा सॉफ्टवेयर में एक मार्क एंड रिव्यूफीचर होता है, जिसकी सहायता से आप जिन प्रश्नों को फिर से देखना या बाद में उत्तर देने का प्रयास करना चाहते हों उन्हें चिन्हित कर सकते हैं, बशर्ते आपके पास खंड को पूरा करने के बाद कुछ समय बचा हो. इस तरह आप समीक्षा के लिए चिन्हित प्रश्नों पर  सीधे पहुंच सकते हैं और महत्वपूर्ण समय बचा सकते हैं. जीआरई प्रोग्राम पर किए गए अनुसंधान से पता चलता है कि इसमें विद्यार्थियों को उत्तरों को बदलने की अनुमति दी जाती है ताकि वे अपने स्कोर को पर्याप्त मजबूती प्रदान कर सकें.

2.गति और परिशुद्धता दोनों महत्वपूर्ण हैं. यदि आपको लगता है कि आप किसी खास प्रश्न का उत्तर देने में अधिक समय ले रहे हैं, तो अनुमान लगाएं और उसे समीक्षा के लिए चिन्हित कर दें. परीक्षा में सभी प्रश्नों के समान अंक होते हैं, अत: अधिक से अधिक प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास करें.

3.जीआरई प्रत्याशियों के लिए आधिकारित ईटीएस वेबसाइट एक सॉफ्टवेयर प्रदान करती है, जिसमें आप प्रैक्टिस परीक्षण कर सकते हैं. इससे आपको परीक्षा के डिजाइन की जानकारी मिलती है और यह भी पता चलता है कि उनका परीक्षण सॉफ्टवेयर कैसे काम करेगा.

4.परीक्षा में कोई नकारात्मक अंक नहीं दिए जाते हैं, अत: अगर आप सही उत्तर के प्रति आश्वस्त न हों, तो सोचा समझा अनुमान लगाने में कोई नुकसान नहीं है. इसलिए प्रत्येक प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास करें.

5.परीक्षा के दौरान आपको रफ कार्य के लिए खाली कागज दिया जाएगा. आप परीक्षक से आवश्यकता अनुसार जितनी शीटें चाहें मांग सकते हैं.

6.परीक्षा के दौरान आपको 10 मिनट का केवल एक ब्रेक मिलेगा. अगर आप निर्धारित से अलग ब्रेक लेना चाहेंगे तो आपके खंड का समय बर्बाद होगा. अत: बेहतर होगा कि लंबे समय तक बैठने की क्षमता विकसित करें और अपनी परीक्षा पर ध्यान केंद्रित रखें. नियमित रूप से प्रैक्टिस परीक्षण आपके लिए मददगार हो सकते हैं.

परीक्षा के दिन

सुनिश्चित करें कि आप टेस्ट स्लॉट सौंपे जाने से कम से कम 30 मिनट पहले परीक्षा हॉल में पहुंच जाएं. यदि आप परीक्षा के लिए देरी से पहुंचेंगे, तो हो सकता है कि आपको केंद्र में प्रवेश की अनुमति न मिले. परीक्षा के दिन आपको निम्नांकित बातों का स्मरण रखना चाहिए:

आरामदायक कपड़े पहने, ताकि किसी भी प्रकार के वातावरण में लंबे समय तक बैठ सकें.

परीक्षा केंद्र के भीतर आपको आगंतुकों या मित्रों को साथ ले जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

सामान्यत: आप परीक्षण कक्ष में केवल अपना पहचानपत्र साथ ले जा सकते हैं. यदि आप विकलांग हैं या आपको स्वास्थ्य संबंधी कोई विशेष आवश्यकता है, तो तदनुरूप आप कोई उपकरण, स्नैक्स या पेय पदार्थ और जरूरी औषधियां साथ ले जा सकते हैं. विकलांग व्यक्तियों या स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों वाले परीक्षार्थियों के लिए बुलेटिन सप्लीमेंट में स्वीकार्य विस्तारित ब्रेक्स का भी आप लाभ उठा सकते हैं.

आप परीक्षक द्वारा दी गई सीट नहीं बदल सकते, और केवल रेस्टरूम का इस्तेमाल करने के लिए परीक्षा कक्ष को छोड़ सकते हैं.

परीक्षा कक्ष में घड़ी, फोन, पीडीएज़ और अन्य इलेक्ट्रोनिक उपकरणों सहित कोई उपकरण ले जाने की अनुमति नहीं दी जाती है. परीक्षकों को ऐसी कोई सामग्री आपसे एकत्र करने या अपने पास रखने की अनुमति नहीं दी जाती है इसलिए परीक्षा केंद्र में कोई भी चीज न ले जाएं.

कोई चीज लिखने के लिए आपको केवल परीक्षक द्वारा दिए गए रफ कागज का इस्तेमाल करना चाहिए और परीक्षा के अंत में रफ कागज परीक्षक को लौटाना न भूलें.

परीक्षा के तत्काल बाद आपको अपना स्कोर रद्द करने का विकल्प होता है. परंतु यदि आप ऐसा करने में विफल रहते हैं, तो आपके अंक आपकी रिपोर्ट किए जाने योग्य हिस्ट्री का हिस्सा बन जाते हैं और उन्हें बाद में रद्द नहीं किया जा सकता. इस समय आपको स्कोर स्लेक्ट विकल्प अपनाना होता है और आप अपने लक्षित संस्थानों तक केवल अपने उत्कृष्ट स्कोर भेजने का चयन कर सकते हैं. हालांकि आप विश्लेषणात्मक लेखन में अपने अंक तत्काल नहीं देख सकते.

कैपलन द्वारा किए गए एक नए सर्वेक्षण से पता चला है कि विश्वभर में 10 में से 8 एमबीए प्रोग्राम जीआरई और जीएमएटी दोनों स्कोरों को स्वीकार करते हैं. अत: यदि आप किसी बिजनेस स्कूल में दाखिला लेने के इच्छुक हों तो आप जीआरई का विकल्प भी अपना सकते हैं.

 

(लेखक दिल्ली स्थित एक कॅरिअर परामर्शदाता हैं. ईमेल - rruchishrimalli@gmail.com)