विशेष लेख


Volume-52

प्रीमियम मोबाइल सॉल्यूशन्स उपलब्ध करवाने के लिये स्टार्ट-अप


नेहा द्विवेदी

कारमेटिक्स प्राइवेट लिमिटेड नोएडा में स्थित एक उत्पाद आधारित आईटी स्टार्ट-अप है. यद्यपि इसकी टीम आवश्यकताओं पर आधारित है. कारमेटिक्स का उद्देश्य उन्नत विश्लेषण और यूजर प्रोफाइलिंग के जरिये बेहतर उपयोगी प्रीमियम मोबाइल सॉल्यूशन्स उपलब्ध करवाना है.
उनका पहला उत्पाद शिपिटमोबी: एंड्रायड, आईओएस और वेब आधारित नोटिफिकेशन चैनल का उपयोग करते हुए बड़े पैमाने पर प्रभावी रूप से बिजनेस से अंतिम उपयोगकर्ता तक सम्प्रेषण की सुविधा हेतु एक पूर्ण सीआरएम (ग्राहक प्रतिधारण और प्रबंधन) प्लेटफार्म है. यह सभी अनिवार्य फ़ीचर्स के साथ जैसे कि मल्टी-लिंगुअल सपोर्ट, जियो-लोकेशन, यूजर सेग्मेंटेशन और श्रेणीकरण, प्रीसेट मैसेजिज, व्यापक नोटिफिकेशन्स, कार्य आधारित नोटिफिकेशन्स आदि के साथ एक शक्तिशाली गियरबॉक्स है जो आपके सभी संदेश प्रेषित करने के लिये बेहतरीन सहयोग प्रदान करता है. इसके अलावा विशिष्ट फ़ीचर्स जैसे कि लक्षित अभियान और मेटिक्युलियस और कस्टमाइजेबल एनालिटिक्स उपयोगकर्ता के व्यवहार में मूर्त अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं.
इनके पास अपनी इन हाउस एनालिटिक्स इंजन की एक टीम है जो कि ग्राहकों की आवश्यकताओं के आधार पर पूर्णत: कस्टमाइजेबल और नवीनतम मैट््िरक्स सुनिश्चित करती है. साथ ही वे सभी सीआरएम कन्स्लटेशन्स और इंटिग्रेशन के लिये अपने ग्राहकों को चौबीसों घण्टे और उच्चतर दक्षतापूर्ण समर्थन प्रदान करता है.
स्टार्ट-अप के सहयोगी संस्थापक गौरव दत्ता, गौरव द्विवेदी और नेहा द्विवेदी ने रोजग़ार समाचार के आनंद सौरभ के साथ बातचीत की.
प्र.) आपको बिजऩेस के लिये विचार कहां से आया?
हम आईआईटीज और आईआईआईटी हैदराबाद से इंजीनियरों की एक टीम हैं. हम में से अधिकतर अपने पूर्व के रोजग़ारों/परियोजनाओं में बड़े डॉटा विश्लेषण और एंड्रायड डेवलपमेंट से जुड़े थे. सबसे पहले हम सभी की दक्षिण एशियाई बाज़ार में एंड्रायड वेव के उदय पर नजऱ गई. दो वर्ष पहले जब हमने इस अवधारणा पर विचार किया, भारत में एप्प विश्लेषण और बड़े डाटा बाज़ार बहुत नवजात स्थिति में थे. हमने उभरते बाज़ार के अनुरूप अपने कार्य की रुचियों और जुनून को जोडऩे का निर्णय लिया. और मुझे यह कहने में खुशी हो रही है कि जहां कहीं भी हम गये और लोगों को अपने उत्पाद दिखाये तो उनका भारी समर्थन प्राप्त हुआ.
प्र.)  शुरूआत में आपका क्या मिशन था?
आईटी सेवा क्षेत्र के तौर पर हम पहले से देश में अग्रणी हैं. हमारे लक्ष्य की अवधारणा के बाद से हमारा ध्यान ऐसे उत्पाद तैयार करने पर रहा जिसने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी को दुनिया की उत्पाद विकास कंपनियों के सर्वोच्च शिखर पर पहुंचा दिया.
प्र.) आपके उद्यम में कितने कर्मचारी काम करते हैं?
इस समय तीन सह-संस्थापक, चार डेवलपर्स और तीन विपणन टीम के सदस्य हैं.
प्र.) आप कौन सी सेवाएं प्रदान करते हैं?
जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, हम एक उत्पाद आधारित आईटी कंपनी हैं. इस समय हमारा बाज़ार में केवल एक उत्पाद है शिपिटमोबि. हम जितना इस्तेमाल करें भुगतान करेंके साथ-साथ उत्पाद का लाइसेंसयुक्त वजऱ्न दोनों ही प्रस्तुत करते हैं और इस तरह उद्योग की विभिन्न आवश्यकतों को पूरा कर रहे हैं.
प्र.) आप अपने बिजऩेस को किस तरह प्रचारित करते हैं?
हम लिंकडिन और फेसबुक, गूगल जैसे सोशल प्लेटफार्म के जरिये ऑनलाइन मार्केटिंग और ऑफलाइन मार्केटिंग दोनों का इस्तेमाल करते हैं. इसके अलावा हमारे मित्रों/साथियों ने भी हमारा प्रचार-प्रसार करने में मदद की है.
प्र.) आप अपनी सफलता का श्रेय किसे देंगे?
हम अपनी सफलता का श्रेय टीम के विविध अनुभव, सीखने की इच्छाशक्ति, उत्कृष्ट संभव समाधानों की खोज और सुपुर्दगी, पूर्णरूपेण संरक्षा और धैर्य तथा अत्यधिक दक्ष टीम कार्य को देना चाहेंगे.
प्र.) आपका यूएसपी क्या है?
हमारा यूएसपी हमारा उन्नत  कस्टमाइज़्ड एनालिटिक्स और पूर्ण डाटा निजता है. हम यथापेक्षित पूर्ण कस्टमाइजेशन के साथ सीआरएम प्लेटफार्म आधारित लाइसेंस प्रदान करने वाली एक विशिष्ट कंपनी हैं.
प्र.) फर्म के प्रमुख के तौर पर आपकी क्या जि़म्मेदारियां हैं?
मैं मुख्यत: इसके वर्तमान प्रचालनों और भविष्य के विकास हेतु सेटिंग पेस की डिफाइनिंग में संलग्न हूं.
स्टार्ट-अप का हिस्सा होने के कारण इसने मुझे अपना खुद का कार्य प्रोफाइल परिभाषित करने की बहुत ही विशिष्ट जिम्मेदारी दी है और आवश्यकता के अनुसार विकास के विभिन्न चरणों में कई सीमाएं तय की हैं जिनमें कोडिंग, सेल्स, हायरिंग और कई अन्य बातें शामिल हैं.
प्र.) आपके समक्ष बिजऩेस में पेश आ रही चुनौतियां क्या हैं?
प्रमुख चुनौती वैश्विक प्रतिस्पर्धा बनाये रखना और वैश्विक स्टैंडिंग तैयार करना है.
प्र.) उन लोगों के लिये आपका क्या संदेश है जो स्टार्ट-अप के लिये योजना बना रहे हैं?
सफलता का कोई सूत्र और तय मार्ग नहीं होता है. लेकिन दृढ़ता और नवाचार के बगैर सफलता संभव नहीं है. आपको कोशिशें जारी रखनी होंगी और शिक्षण के मोड़ पर किसी समय आप अपनी सफलता का मार्ग अवश्य प्राप्त कर लेंगे.
प्र.) आप भारत में स्टार्ट-अप्स की स्थिरता के बारे में कैसा महसूस करते हैं?
स्टार्ट-अप्स की स्थिरता केवल गतिशील बाजा़ार में संघर्ष के लिये अपने आपको लगातार नवाचार सुधार से ही संभव हो सकती है. साथ ही एक ऐसा बिजनेस मॉडल चुनना भी आवश्यक है जो कि वातावरण के सर्वाधिक अनुकूल हो और साथ ही सर्वाधिक प्रभावी मार्ग के जरिये ग्राहक आधार को बढ़ाने और विकास पथ पर अग्रसर होना जारी रखें.