सफलता की कहानी


Volume-22

स्पोर्ट्सकैफे अपने प्रशंसकों के कारण अस्तित्व में है 

आज की डिजिटल दुनिया में सामग्री जुटाना कोई बहुत बड़ी चुनौती नहीं है। परंतु खेलों के प्रति उत्साह रखने वाले यशस्वी टकलपल्ली और प्रभु तिरूपति ने ये महसूस किया है कि ऐसे बहुत कम भारतीय प्लेटफार्म हैं जहां खेलों पर ध्यान केंद्रित किया जाता हो। डेली न्यूज़ मीडिया के अलावा स्काई स्पोट्र्स, एसएल और टॉक्सपोर्ट जैसे कई अंतर्राष्ट्रीय खेल मंचों के मद्देनजऱ इन दोनों ने एक ऐसे मंच का निर्माण करने की बात सोची जिसमें भारत में खेलों पर फ़ोकस किया जाये। अत: इन्होंने ख़ासतौर पर भारतीय खेल प्रेमियों के लिये सभी प्रकार की खेल गतिविधियों की कवरेज के वास्ते प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करते हुए एक न्यूज़ और गेमिंग स्पोर्ट्सकैफे की शुरूआत की। उनके मन में विचार उस वक्त आया जब ये दोनों पिछले वर्ष स्विस-ओपन में सायना नेहवाल को फॉलो करने की कोशिश कर रहे थे। सत्ताईस वर्षीय यशस्वी ने कहा, ‘हमने महसूस किया कि भारतीय खेलों के प्रति समर्पित कोई वेबसाइट नहीं है जो इसके बारे में हमें जानकारी दे सके, खासकर जब मैच चल रहा हो और कोई महत्वपूर्ण घटनाक्रम हो रहा हो और हमने महसूस किया कि यह समस्या मात्र बैडमिंटन के साथ नहीं है, इसमें भारतीय हॉकी तथा कम प्रचारित अन्य खेल भी शामिल हैं। स्पोर्ट्सकैफे के संस्थापक यशस्वी ने उद्यमशीलता की अपनी यात्रा के बारे में रोजग़ार समाचारको बताया। उनके साक्षात्कार का सार निम्नानुसार है:

प्रश्न: आपको बिजऩेस करने का विचार कहां से आया?

उत्तर: सर्वप्रथम हम अत्यंत भावुक खेल प्रशंसक हैं। स्पोर्ट्सकैफे का विचार उस वक्त आया जब हम भारत में गुणवत्तापूर्ण ऑनलाइन खेल कवरेज के अभाव को लेकर उदास थे। अपने-अपने रोजग़ारों में सुव्यवस्थित होने के बावजूद हमने महसूस किया कि ये कार्य हमारे लिये बहुत चुनौतीपूर्ण था। हमारे शरीर के भीतर उत्पन्न खेलों की ज्वाला हमारे रक्त में शामिल हो चुकी थी और इसका परिणाम स्पोट्र्स कैफे के तौर पर सामने आया!

प्रश्न: शुरूआत में आपका क्या मिशन था?

उत्तर: स्पोर्ट्सकैफे का निर्माण भारतीय खेल प्रेमियों को अधिक आनंदित और संलग्न करने के दृष्टिकोण के साथ किया गया था। हम उपदेश देने में विश्वास नहीं करते हैं, यह हमारे लिये हमेशा विचारविमर्श होता है। हम लाइव स्कोर, नवीनतम समाचार उपलब्ध करवाते हैं, पूर्ण जानकारी के साथ फ़ीचर्स लिखते हैं और सूचनात्मक आंकड़े प्रस्तुत करते हैं। और अब हम उससे कहीं अधिक हैं, जो कुछ हम थे। हम व्यंग्य, आमोद-प्रमोद और मज़ाक करते हैं, हास्य चित्र प्रस्तुत करते हैं और मतसंग्रह तथा चर्चाएं करते हैं, दरअसल हम सब कुछ करते हैं। उपयोगकर्ता मात्र ‘‘हाय‘‘ अथवा ‘‘हैलो‘‘ संदेश टाइप करके हमसे जुड़ सकते हैं और बॉट से बातचीत कर सकते हैं। बॉट स्पोटर््सकैफे को अपने दर्शकों को केवल उनके पसंदीदा खेलों अथवा खिलाडिय़ों के बारे में समाचार प्राप्त करने हेतु खेल समाचारों को प्रस्तुत करने के लिये उपयोगकर्ता अनुकूल बनाने में सहायता करते हैं। यह बहुत ही सरल है, उपयोगकर्ता ‘‘सानिया मिजऱ्ा के बारे में समाचार‘‘ मात्र टाइप कर सकते हैं और बॉट उन्हें इस टेनिस चैंपियन के आसपास की तरोताज़ा खबरों से रूबरू करवा देगा। उपयोगकर्ता बॉट के जरिये अपने फेसबुक मैसेंजर पर भी आलेख का तीव्र सार प्राप्त कर सकते हैं।

प्रश्न: उद्यम में कितने कर्मचारी काम करते हैं?

उत्तर: टीम में अब चार लेखक, तीन विपणनकर्ता, 40 से अधिक अतिथि लेखक और छह तकनीकी विशेषज्ञ हैं। हमारी वेबसाइट पिछले वर्ष अक्तूबर में शुरू की गई थी और मोबाइल एप्प को इस वर्ष जून में शुरू किया गया। हमारी टीम कई गुणा विस्तारित हो रही है और हमारे पास प्रतिभावान लोगों के लिये हमेशा जगह है, जिसकी एकमात्र अपेक्षा है-जिसमें भी वे कुछ कर रहे हैं, उसका जुनून होना चाहिये।

प्रश्न: आप क्या सेवाएं प्रदान करते हैं?

उत्तर: हम कई अंतर्राष्ट्रीय स्थलों को देखते हैं जो हमारी एनबीए, ईपीएल, ला लिगा और यहां तक कि बेसबाल ऑनलाइन फॉलो करने में मदद करते हैं। यद्यपि भारतीय खेल किसी समर्पित कवरेज के बगैर सामान्य न्यूज़ पोर्टल पर मुख्यत: निर्भर रहते हैं। हम दोनों के मन में खेल प्रेमियों के लिये न केवल समाचारों के लिये बल्कि उपयोगिता के लिये एक एप्प के सृजन का विचार आया। स्पोटर््सकैफे शहर के आसपास होने वाले सभी प्रकार के खेलों और इसी प्रकार के दूसरे आयोजनों पर अद्यतन जानकारियां और जीवंत सूचनाएं उपलब्ध करवाता है।

प्रश्न: आप अपने बिजऩेस का प्रचार कैसे करते हैं?

उत्तर: यह प्रदर्शन को लेकर है। हमारे यूजर्स ही हमारे ब्रैंड एम्बेसडर हैं।

प्रश्न: आप अपनी सफलता का श्रेय किसे देना चाहते हैं?

उत्तर: हमारे शुरूआती प्रयासों के बाद हमारी टीम ने तीव्रता के साथ विस्तार किया है। आज के दिन हमारी टीम में कुछेक अत्यधिक प्रतिभावान खेल पत्रकार शामिल हैं जो कि खेलों के नवीनतम घटनाक्रमों की कवरेज करते हैं और एक अत्यधिक सक्षम तकनीकी टीम है जो कि उत्कृष्ट विजुअल टूल्स और इंटरफेसिस उपलब्ध करवाने में सहायता करती है। स्पोर्टस कैफे में भारतीय खेल प्रेमियों के लिये सेवा का विस्तार करते हुए हम रोज़ाना अपने सपनों को साकार करते हैं।

प्रश्न: आपके कितने यूजर्स हैं और नये यूजर्स जोडऩे का अनुपात क्या है?

उत्तर: दिसंबर में 10,000 यूजर्स से शुरू करते हुए टीम का मार्च में कऱीब 15 लाख यूजर्स को छूने का दावा है तथा जून में करीब पांच लाख विजिटर्स रहे हैं। वे विज्ञापनों, सामग्री सिंडीकेशन और गेमिंग पर फ्रीमियम मॉडल तथा साझेदारी के मुद्रीकरण को राजस्व मॉडल के तौर पर देखते हैं।

प्रश्न: बिजऩेस के बारे में विशिष्टता क्या है?

उत्तर: खेलों के प्रति प्यार के लिये हम क्रिकेट तक ही सीमित होकर नहीं रहना चाहते बल्कि फुटबॉल, बैडमिंटन, हॉकी, टेनिस, कबड्डी जैसे लोकप्रिय और अन्य आधुनिक खेलों को शामिल करते हुए भारतीय खेल प्रेमियों से जुडऩा चाहते हैं और अधिक से अधिक भारतीय खेल प्रेमी स्थानीय लीग तथा चैंपियनशिपों को फॉलो कर रहे हैं। हमारा अस्तित्व अपने प्रशंसकों के कारण ही है और हम कभी भी आपसे संपर्क के अवसर को कभी नहीं चूकना चाहेंगे, चाहे यह हमारी वेबसाइट, सोशल मीडिया, मंचों अथवा एप्प के जरिये हो। स्पोर्ट्स कैफे खेलों के प्रति प्रेमभावना के साथ जि़ंदा है और आपकी खेल आवश्यकताओं को पूर्ण करता है।

प्रश्न: आपके तत्काल लक्ष्य क्या हैं और फर्म के मुखिया के तौर पर क्या जि़म्मेदारियां हैं?

उत्तर: हम करीब एक करोड़ का यूजर बेस सृजित करने के लिये प्रयासरत हैं और इसे करने के लिये हमारा ध्यान सिर्फ इस बात पर है कि हम उपयोगकर्ता के लिये आगे क्या कुछ कर सकते हैं, बजाए इसके कि हमें धन कमाने के लिये क्या कुछ करने की आवश्यकता है। यदि हमारे पास यूजर्स होंगे तो धन का प्रवाह स्वत: ही हो जायेगा। मुखिया के तौर मैं समूह में कार्यरत अपने मित्रों का उत्साह बढ़ाता रहता हूं।

प्रश्न: आपने इस प्रकार का बिजऩेस क्यों चुना?

उत्तर: हम खेल के प्रति उत्साही हैं, चाहे ये क्रिकेट है अथवा कोई अन्य खेल। खेल के प्रति ये उत्साह कार्य स्थल पर भी झलकता है। कार्यालय के भीतर हम यही उत्साह और जोश कायम रखते हैं और हमारी विषयवस्तु को प्रस्तुत करते हुए इसे दर्शाते हैं। हम आमोद-प्रमोद को संजोकर रखते हैं और हमारे प्रत्येक कर्मचारी के लिये स्वतंत्र कार्य माहौल बनाये रखते हैं और उनमें सृजनात्मकता के लिये उत्साह बढ़ाते हैं, हम जिस बात में विश्वास करते हैं, वह आकर्षक सामग्री उपलब्ध कराने का सार है।

प्रश्न: यदि आप किसी को शुरूआत मात्र के लिये कोई सलाह देना चाहेंगे तो वह क्या होगी?

उत्तर: आप कोई कार्य शुरू करने से पहले पर्याप्त समय लें। जब आप शुरू करते हैं तो अपने विचारों को 200 प्रतिशत महत्व दें। यदि इसमें समय लग रहा है तो कोई बात नहीं, धैर्य रखें, एक दिन आप ज़रूर सफल होंगे।

प्रश्न: आपको अपने बिजऩेस में किस प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ा है?

उत्तर: काम चुनौतियों से भरा था। टीम को शून्य से शुरू करके यूजर बेस का निर्माण करने में कठिनाई का सामना करना पड़ा। उन्हें लोगों को समझाने में कड़ी मशक्कत करनी पडी़ कि स्पोटर््सकैफे उनके लिये कुछ भिन्न सामग्री लेकर आया है। टीम ने अत्यधिक संलग्नता के साथ सामग्री का निर्माण करने पर ध्यान केंद्रित किया जिसमें स्पोर्टस ब्लॉग के लिये उत्साह था और पत्रकारिता के आचार-विचार को भी शामिल किया गया।  उन्होंने सोशल मीडिया, विशेषकर फेसबुक पर मज़बूत फोकस करने और एक उत्साही यूजर बेस तैयार करने के लिये विभिन्न प्रशंसक पेज का निर्माण करने का भी फैसला किया।

प्रश्न: आप भारत में स्टार्टअप्स की स्थिरता के बारे में क्या महसूस करते हैं?

उत्तर: आगे बढऩे का ये स्वर्णिम अवसर है। हर तरफ चुनौतियां हैं परंतु सरकार स्टार्टअप्स के लिये पर्याप्त सहायता उपलब्ध करवा रही है, अत: सोच विचार न करें, दुनिया आपकी तरफ टकटकी लगाये बैठी है।

 

अमित त्यागी