विशेष लेख


Volume-4, 28 April-4 May, 2018

 

प्रकाशन विभाग ने लंदन पुस्तक मेला, 2018 में भाग लिया

प्रकाशन विभाग ने लंदन पुस्तक मेला, 2018 में भाग लिया जो कि अधिकार संबंधी वार्तालापों और प्रिंट, ऑडियो, टीवी, फिल्म और डिजिटल चैनलों की विभिन्न विषय-वस्तुओं की बिक्री और वितरण के संबंध में एक वार्षिक वैश्विक आयोजन है. तीन दिन के इस कार्यक्रम में विश्व के 25,000 से अधिक प्रकाशन सदस्यों को एक ही छत के नीचे ग्राहकों, विषयवस्तुओं और उभरते बाज़ारों से सीधे जुडऩे का अवसर प्राप्त होता है. लंदन पुस्तक मेला इस वर्ष 10-12 अप्रैल, 2018 को आयोजित किया गया था. महानिदेशक, प्रकाशन विभाग के नेतृत्व में प्रकाशन विभाग से एक प्रतिनिधिमंडल ने इसमें भाग लिया.

लंदन पुस्तक मेले में प्रकाशन विभाग के चयनित महत्वपूर्ण प्रकाशनों को प्रदर्शित किया गया जिनमें महात्मा गांधी से संबंधित साहित्य, आधुनिक भारत के निर्माता शृंखला, कला, चित्रकारी, महिला सशक्तिकरण, पर्यावरण और विकास, बाल पुस्तकें, राष्ट्रपति भवन के बारे में पुस्तकें और योजनातथा कुरूक्षेत्रजैसी पत्रिकाएं शामिल हैं.

प्रकाशन विभाग के स्टॉल का प्रमुख आकर्षण प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित कॉफी टेबल बुक्स रहीं जिनमें राष्ट्रपति भवन की शृंखला, भारत के सुप्रीम कोर्ट से संबंधित पुस्तकें और भारत के निर्वाचन आयोग से संबंधित पुस्तकें शामिल हैं. इन कॉफी टेबल बुक्स ने स्टॉल को जीवंत बना दिया. व्यावसायिक आगंतुकों को प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित व्यापक रेंज की पुस्तकों का अवलोकन करने का मौका मिला जिनमें मात्र 100/- रु. मूल्य की पुस्तकों से शुरू होकर प्रीमियम कॉफी टेबल बुक्स शामिल हैं जिनसे इच्छुक प्रकाशनों और स्थानीय पुस्तक विक्रेताओं/सेवा प्रदाताओं को अपने संभावित क्रेताओं को विभिन्न किस्मों के प्रकाशन उपलब्ध कराने में सहायता मिली.

प्रकाशन विभाग के स्टॉल को प्रतिष्ठित व्यक्तियों ने देखा जिनमें उच्चायोग, नेहरू सेंटर के अधिकारी और पुस्तक प्रेमी शामिल थे. प्रकाशन विभाग की महानिदेशक ने ब्रिटेन और अन्य पड़ौसी देशों में भारतीय समुदायों को प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित विभिन्न प्रकार के महत्वपूर्ण प्रकाशन उपलब्ध कराने की संभावनाओं का पता  लगाने के लिये उच्चायोग, नेहरू सेंटर के अधिकारियों और बड़ी संख्या में प्रकाशकों के साथ बैठकें कीं.