विशेष लेख


Special Article-32

स्वच्छता पखवाड़ा
खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय द्वारा स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने 16-31 अक्तूबर, 2016 के दौरान स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन किया। अधिकारियों और पीएमए ने मंत्रालय के अधीन विभिन्न संस्थानों का दौरा किया। मंत्रालय ने निम्नलिखित कार्य योजना तैयार की थीं।

*स्वच्छता पखवाड़ा में मेगा फूड पार्कों, कोल्ड चेन परियोजनाओं, बूचडख़ाना परियोजनाओं और मंत्रालय से सहायता प्राप्त खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला परियोजनाओं को शामिल किया गया। परियोजना प्रमोट्र्स को स्वच्छता शपथ दिलाते हुए स्वच्छता पखवाड़ा मनाने, परियोजना परिसरों में साफ-सफाई सुनिश्चित करने और पर्यावरण संरक्षा अपनाये जाने की सलाह दी गई। इनमें कृषि कचड़े का उपयोग/निपटान (क्षमता), सौर/जैव-ईंधन कैप्टिव पावर प्लांट (क्षमता), गंदा पानी शोधन संयंत्र/सीवेज शोधन संयंत्र (क्षमता), डार्मिटरी में कमरों की संख्या, कामकाजी महिलाओं के लिये क्रैच की सुविधा उपलब्ध करवाने, शौचालयों की संख्या आदि के साथ-साथ उनकी ताज़ा स्थिति संबंधी कार्य (पूर्ण/कार्यान्वयनाधीन) शामिल हैं।

*मेगा फूड पार्क योजना के अधीन स्वस्थ्य और स्वच्छता सुनिश्चित करने हेतु अवसंरचना अनुदान हेतु पात्रता है। इसी प्रकार जोखि़म विश्लेषण और महत्वपूर्ण नियंत्रण बिंदु (एचएसीसीपी) योजना के अधीन यूनिटों को अच्छे स्वास्थ्यकर व्यवहारों, अच्छे विनिर्माण व्यवहारों को अपनाने और खाद्य संरक्षा प्रबंधन प्रणालियों (एफपीएमएस) से संबंधित एचएसीसीपी/आईएसओ 22000 के लिये प्रमाणन के लिये सहायता उपलब्ध करवाई जा रही है।

*निजी प्रमोटर्स को स्वच्छता अपनाये जाने के लिये स्थाई सुविधाएं रखने हेतु प्रोत्साहित करने के लिये खाद्य प्रसंस्करण और संरक्षण क्षमताओं के सृजन/विस्तार हेतु योजना दिशानिर्देशों में स्वच्छता संबंधी अवसंरचना के लिये पात्रता हेतु परिसरों के भीतर शौचालयों, परिवर्तन कक्ष, सार्वजनिक सुविधाओं के लिये अनुदान का प्रस्ताव किया जाता है।

*पीएमएज योजनाओं के कार्यान्वयन में सहायता कर रहे हैं और मंत्रालय के अधिकारी स्वच्छता संबंधी मुद्दों और सुविधाओं की समीक्षा करने के लिये परियोजना स्थलों के दौरे करेंगे और इस संबंध में अपनी दौरा रिपोर्ट के भाग के तौर पर टिप्पणियां दर्ज करेंगे।

*मंत्रालय के अधीन संस्थानों निफ्टेम और आईआईसीपीटी के शिक्षकों और छात्रों को शामिल करते हुए स्वच्छता और स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता फैलाई जायेगी। इस उद्देश्य के लिये वे आसपास के गांवों/तालुकों में जायेंगे।

16-21 अक्तूबर 2016 के दौरान निम्नलिखित गतिविधियां संचालित की गईं।

*निफ्टेम में छात्रों को सुरक्षित और स्वास्थ्यवद्र्धक भोजन सुनिश्चित करने के लिये हॉस्टल मैस वर्करों को प्रशिक्षित करने के लिये हॉस्टल मैस के लिये 16.10.2016 को अपशिष्ट विश्लेषण और महत्वपूर्ण नियंत्रण बिंदुओं पर प्रशिक्षण संचालित किया गया। प्रशिक्षण में सभी 4 हॉस्टलों नामत: ब्रह्मपुत्र, सतलुज, गंगा और कावेरी के कर्मियों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम के उपरांत हॉस्टल वार्डनों और डीन, स्टुडेंट वेलफेयर के पर्यवेक्षण अधीन मैस कमेटी ने इसका कार्यान्वयन सुनिश्चित किया।

*सचिव, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग ने एसओएम के दौरान मंत्रालय की 16 से 31 अक्तूबर, 2016 के दौरान स्वच्छता पखवाड़ा मनाये जाने की तैयारियों की स्थिति की समीक्षा की।

*सचिव, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग ने सभी अधिकारियों को मंत्रालय द्वारा वित्तपोषित कम से कम एक परियोजना का दौरा करने और स्वच्छता पखवाड़ा मनाये जाने का जायजा लेने और ठोस कचड़ा प्रबंधन, सीवेज के पानी के शोधन, शौचालयों, गंदा पानी शोधन संयंत्र आदि जैसी सुविधाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करने और मंत्रालय को रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।

*मंत्रालय के सभी कर्मचारी और अधिकारी पंचशील भवन के प्रांगण में एकत्र हुए जहां सचिव, खाद्य प्रसंस्करण ने सभी को स्वच्छता शपथ दिलाई गई।

*करीब 35 स्ट्रीट फूड वेंडर्स को स्वच्छता, स्वास्थ्य और खाद्य संरक्षा के बारे में शिक्षित करने के लिये भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) और राष्ट्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी एवं उद्यमिता प्रबंध संस्थान (निफ्टेम) के सहयोग से के ब्लॉक, सेंट्रल पार्क मार्किट, लाजपत नगर, नई दिल्ली में स्ट्रीट फूड वेंडर्स के लिये एक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। स्ट्रीड फूड वेंडर्स को पर्चे और स्वास्थ्य किट वितरित की गईं। सचिव, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के नेतृत्व में सभी वरिष्ठ अधिकारियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया। आईआईसीपीटी तंजावूर में स्वच्छता पखवाड़ा मनाया गया जिसमें आईआईसीपीटी परिसर में 17 अक्तूबर, 2016 को सफाई, सौंदर्यकरण और वृक्षारोपण गतिविधियां चलाई गईं। इस कार्यक्रम में करीब 50 से अधिक छात्र स्वयंसेवकों ने भाग लिया। आईआईसीपीटी के सौंदर्यकरण के लिये स्वयंसेवकों द्वारा निम्नलिखित गतिविधियां संचालित की गईं:-

*इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ क्रॉप प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी (आईआईसीपीटी) ने 18 अक्तूबर, 2016 को आईआईसीपीटी के परीक्षा हाल, एपीजे अब्दुल कलाम ब्लॉक में स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत स्वास्थ्य ही धन है’‘ शीर्षक पर अंतर-महाविद्यालय निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छात्रों को स्वच्छता कार्यक्रमपर अपनी क्षमता के अनुसार विचार अभिव्यक्त करने का अवसर प्रदान करना था। इस प्रतियोगिता में आईआईसीपीटी के स्नातकपूर्व और स्नातकोत्तर छात्रों ने भाग लिया। प्रतियोगिता शुरू होने से पहले निबंध लेखन के लिये पालन किये जाने वाले अनुदेशों के बारे में अवगत कराया गया। कार्यक्रम के मूल्यांकन के लिये एक मूल्यांकन समिति बनाई गई और तीन छात्रों को प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार के लिये चुना गया।

*कुलपति, निफ्टेम ने अन्य अधिकारियों के साथ खाद्य प्रसंस्करण प्रयोगशाला, कैफेटेरिया और हॉस्टलों का निरीक्षण किया तथा स्वच्छता स्तर में सुधार और सभी स्थानों पर इनकी निरन्तरता बनाये रखने के लिये निर्देश दिये।

*इसके अलावा बागवानी संबंधी साफ-सफाई और निफ्टेम भवनों के आसपास उगी झाडिय़ों की कटाई की गई। इसके अतिरिक्त मुख्य द्वार के बाहर से लेकर भारतीय स्टेट बैंक कॉर्नर तक एक पार्क भी विकसित किया गया है। यह कार्यक्रम सितंबर, 2016 के मध्य में आरंभ हुआ और अक्तूबर, 2016 के दौरान पूरा किया गया।

*इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ क्रॉप प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी (आईआईसीपीटी) ने आईआईसीपीटी की एनएसएस यूनिट के साथ समन्वय में जनता में स्वच्छ भारत कार्यक्रम के बारे में जागरूकता फैलाने के वास्ते 19 अक्तूबर 2016 को तंजावूर कस्बे में एक जुलूस का आयोजन किया। निदेशक, आईआईसीपीटी ने तंजावूर बस अड्डे के निकट झंडी दिखाकर जुलूस को रवाना किया और रैली में सभी कर्मचारियों तथा छात्रों ने भाग लिया और वे आईआईसीपीटी परिसर तक चलकर गये। कार्यक्रम में शामिल लोग स्वच्छ भारत मिशन के नारों और उक्तियों से परिपूर्ण तख्तियां हाथ में लिये हुए थे जिन्हें छात्रों ने अंग्रेजी और तमिल में लिखा था। रैली के दौरान जनता की अच्छी प्रतिक्रिया रही।

*विशेष सचिव, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने असम का दौरा किया जहां उन्होंने विभिन्न यूनिटों में स्वच्छता अभियान की स्थिति का अवलोकन किया।

*संयुक्त सचिव, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने अन्य अधिकारियों के साथ गाजीपुर में दिल्ली नगर निगम के बूचडख़ाने का दौरा किया और वहां मंत्रालय की पहल पर चलाये जा रहे स्वच्छता अभियान को देखा। परिसरों और आसपास के क्षेत्र में उच्च स्तर की साफ-सफाई रखी गई है।

*आईआईसीपीटी ने टीडीसी हाल, डॉ. वी सुब्रमणियन ब्लॉक, आईआईसीपीटी में 20 अक्तूबर, 2016 को आईआईसीपीटी के सहायक और हाउसकीपिंग स्टाफ के लिये कार्यालयों में स्वच्छता और कचड़ा प्रबंधन पर एक कार्यशाला का आयोजन किया। यह कार्यक्रम 16 अक्तूबर 2016 से 31 अक्तूबर 2016 तक स्वच्छता पखवाड़ा समारोह के भाग के तौर पर आयोजित किया गया था। डॉ. षणमुगसुंदरम, एसो. प्रोफेसर, आईआईसीपीटी ने सभा को संबोधित किया और परिसर में स्वच्छता बनाये रखने पर जोर दिया। बाद में डॉ. मीनाक्षी, संकाय, आईआईसीपीटी ने कार्यालयों में स्वच्छता और कचड़ा प्रबंधन के महत्व और कचड़े को अलग करने और कचड़ा सामग्रियों के निपटान के महत्व के बारे में भाषण किया।

*आईआईसीपीटी में एक नवनिर्मित खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला में स्वच्छता अभियान संचालित किया गया।

*इसके अलावा नये गोद लिये गये हरियाणा के 3 नये वीएपी गांवों से एक प्रतिनिधिमंडल ने 20.10.2016 को निफ्टेम का दौरा किया और उन्हें निफ्टेम में संचालित गतिविधियों के बारे में अवगत कराया गया तथा उनके आसपास के क्षेत्रों के गांवों में स्वच्छता के प्रति संवेदनशील किया गया।

*सचिव, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग ने कोल्ड चेन परियोजनाओं के प्रमोटर्स को 21 अक्तूबर 2016 को पंचशील भवन, नई दिल्ली में उनके साथ एक बैठक के दौरान परियोजना क्षेत्र में स्वच्छता और स्वास्थ्यवद्र्धक स्थिति के महत्व के बारे में संवेदनशील किया और उन सभी से स्वच्छता मिशन में सक्रिय भागीदारी का अनुरोध किया।

*कोल्ड चेन परियोजना और मेगा फूड पार्कों के सभी प्रमोटर्स को अपने परियोजना क्षेत्रों में अच्छे स्वास्थ्य व्यवहार सुनिश्चित करने के वास्ते 21 अक्तूबर 2016 को पत्र जारी किया किया गया।

 

रो..