विशेष लेख


Special Article Volume-37

स्वच्छता पखवाड़ा

कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के तहत कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग 15 दिसंबर, 2016 तक स्वच्छता पखवाड़ा मना रहा है. केन्द्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन, परमाणु ऊर्जा तथा अंतरिक्ष राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने हाल ही में इस पखवाड़े का उद्घाटन किया. स्वच्छता पखवाड़े के शुरुआती दिन कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग ने सचिवालय प्रशिक्षण और प्रबंधन संस्थान के सहयोग से नयी दिल्ली के बेर सराय मार्केट में और उसके आसपास विशेष सफाई अभियान चलाया.

डॉ. सिंह ने उद्घाटन समारोह में कहा कि यह पखवाड़ा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दो साल पहले शुरू किये गये स्वच्छता अभियान का विस्तार है. उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान पिछले वर्षों में सफल रहा है. स्कूलों में लाखों शौचालय बनाये गये और भारत को खुले में शौच की प्रथा से मुक्त समाज बनाने के लिये अभियान चलाया गया है.

डॉ. सिंह ने कहा कि स्वच्छता अभियान में तन, मन और धन तीनों की सफाई शामिल है. इसका अर्थ शारीरिक, नैतिक और आर्थिक स्वच्छता से है. इस सिलसिले में उन्होंने नोटबंदी के बारे में श्री मोदी के 08 नवंबर, 2016 के फैसले का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि अब तक छिपा धन इस फैसले के परिणामस्वरूप सिर्फ तीन हफ्तों में प्रचलन में आ गया है. इस धन का इस्तेमाल देशवासियों के लिये समाज कल्याण की योजनाओं में किया जायेगा.

बेर सराय मार्केट के अपने दौरे में डॉ. सिंह ने दुकानदारों से बातचीत की और उन्हें ई-ट्रांजेक्शन अपनाने के लिये प्रेरित किया. उन्होंने दुकानदारों को इस प्रणाली के जरिये खरीद-फरोख्त की उपयोगिता और सुविधा के बारे में बताया.

 

कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग स्वच्छता पखवाड़ा के दौरान साफ-सफाई के व्यापक अभियान के तहत अनेक कार्यक्रम चला रहा है. इस क्रम में स्वच्छ भारतविषय पर एक पोस्टर/स्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया है. इसके अलावा नयी दिल्ली में नॉर्थ ब्लॉक, लोकनायक भवन और पुराने जेएनयू परिसर के कमरों और सार्वजनिक स्थलों में फर्श, फर्नीचरों, पंखों और बिजली के अन्य सामान की सफाई तथा जाले, टूटे फर्नीचर और रद्दी हटाने के लिये अभियान चलाया गया है.